दिल्ली एयरपोर्ट मेट्रो एक्सप्रेस प्राइवेट लिमिटेड  को दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन  के खिलाफ आर्बिट्रेशन में जीत हासिल हुई है। इस जीत से कंपनी को 2,950 करोड़ रुपये का मुआवजा मिल सकता है। अनिल अंबानी की अगुवाई वाली कंपनी ने गुरुवार को एक स्टेटमेंट में यह बात कही है। कंपनी को यह मुआवजा प्रॉजेक्ट का कंसेशन अग्रीमेंट रद्द किए जाने के बदले में मिल सकता है। राजधानी में मेट्रो एक्सप्रेस प्रॉजेक्ट को डिवेलप करने और ऑपरेट करने का कॉन्ट्रैक्ट रखने वाली रिलायंस इन्फ्रास्ट्रक्चर ने 2012 में कॉन्ट्रैक्ट टर्मिनेट कर दिया था। कंपनी ने कहा था कि डीएमआरसी प्रॉजेक्ट के सिविल स्ट्रक्चर में

सस्ती समझी जानेवाली दिल्ली मेट्रो अब थोड़ी महंगी हो गई है। दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन ने दिल्ली मेट्रो के किराए में 66 फीसदी तक की बढ़ोतरी की है। अब आपको दिल्ली मेट्रो में कम से कम दस रुपये और अधिकतम 50 रुपये देने होंगे। आठ साल बाद दिल्ली मेट्रो के किराए में बढ़ोतरी की गई, पिछली बार साल 2009 में दिल्ली मेट्रो के किराए बढ़ाए गए थे। दिल्ली मेट्रो के घोषित नए किराए के हिसाब से दो किलोमीटर तक के लिए 10 रुपये देने होंगे, दो से पांच किलोमीटर के लिए 15 रुपये, पांच से 12 किलोमीटर के लिए 20 रुपये, 12

दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन बोर्ड किराया बढ़ाने का फैसला ले सकता है। केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय की ओर से गठित किए गए पैनल ने हाल ही में न्यूनतम किराये को 8 से 10 रुपये करने और अधिकतम किराये को 30 से 50 करने की सिफारिश की थी। 7 नवंबर को भी बोर्ड की इस मसले पर बैठक हुई थी, लेकिन दिल्ली सरकार के प्रतिनिधि ने किराया निर्धारण समिति की सिफारिशों के अध्ययन के लिए कुछ दिनों का वक्त मांगा था। सूत्रों का कहना है कि उस बैठक में दिल्ली सरकार के अलावा केंद्र सरकार भी एमसीडी चुनाव से पहले किराये में

राजधानी की मेट्रो में एक बुजुर्ग मुस्लिम शख्स से बुरे बर्ताव और भेदभाव का मामला सामने आया है। 2 लड़कों ने शख्स को सीट देने से इनकार कर दिया और कहा, "पाकिस्तान चले जाओ और वहां सीट मांगो।" एक वुमन राइट एक्टिविस्ट ने मेट्रो में पिछले हफ्ते हुई इस घटना का जिक्र अपनी फेसबुक पोस्ट में किया है। ये सीट हिंदुस्तानियों की है - न्यूज एजेंसी के मुताबिक वुमन राइट एक्टिविस्ट कविता कृष्णन ने इस शर्मनाम वाकये का जिक्र अपनी फेसबुक पोस्ट में किया, जिसके बाद मामले का खुलासा हुआ। - फेसबुक पोस्ट के मुताबिक दोनों लड़के सीनियर सिटीजंस की सीट पर बैठे

दिल्ली मेट्रो के फेज तीन में लगातार हो रही देरी ने डीएमआरसी को अगल तरह से सोचने के लिए मजबूर कर दिया है। दरअसल मेट्रो लाइन के बीच में आने वाली दो इमारतों के चलते काम में हो रही देरी को देखते हुए दिल्ली मेट्रो ने एक अलग रास्ता निकाला है। दिल्ली मेट्रो ने इन दोनों इमारतों के मालिकों से सीधे बात कर उनके टॉप फ्लोर्स को तोड़ने के एवज में 5.19 करोड़ का सौदा कर डाला। इस तरह दिल्ली मेट्रो ने पहली बार इजमेंट राइट का इस्तेमाल कर यह डील की है। हालांकि अब इन इमारतों पर जब भी दोबारा निर्माण