राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए आज अधिसूचना जारी कर दी गई है. निर्वाचन आयोग ने राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए अधिसूचना जारी कर दी. निर्वाचन अधिकारी अनूप मिश्रा की ओर से जारी अधिसूचना में यह जानकारी दी गई है. इसके साथ ही राष्टपति पद के चुनाव की औपचारिक प्रक्रिया शुरू हो गई है. जानाकारी के लिए बता दें कि राष्ट्रपति चुनाव के लिए बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह ने सभी राजनीतिक दलों के नेताओं से चर्चा के लिए बीजेपी के तीन सदस्यों की एक समिति बनाई है. इस समिति में गृह मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री और रक्षा मंत्री अरुण

चुनाव सुधार के लिए गठित की गई संसदीय समिति आज चंडीगढ़ का दौरा करेगी। इस दौरान ये समिति तमाम राजनीतिक पार्टियों के साथ बैठक करेगी। इस बैठक में हरियाणा के मुख्य निर्वाचन अधिकारी भी मौजूद रहेंगे।

दिल्ली चुनाव आयोग द्वारा इलेक्‍ट्रॉनिक वोटिंग मशीन हैक करने को लेकर 3 जून को हैकाथॉन का आयोजन किया गया है. ईवीएम टैंपरिंग के आरोप को लेकर हमलावर रही आम आदमी पार्टी भी इसी दिन ईवीएम चैलेंज हैकाथॉन का अयोजन करेगी. सौरभ भारद्वाज का कहना है कि चुनाव आयोग ने कभी भी हेकाथॉन की बात नहीं की थी, EC ने हमेशा ही ईवीएम चैलेंज की बात की है. भारद्वाज ने कहा कि आम आदमी पार्टी के टेक ग्रुप ने फैसला किया है कि अपनी खराब मशीन का चैलेंज को वह 3 जून को आयोजित करेंगे. इसमें वह देश के सभी एक्सपर्ट और चुनाव

ईवीएम मशीन हैक करने के लिए आज आवेदन करने का आखिरी दिन है, लेकिन अभी तक किसी भी पार्टी ने इसके लिए आवेदन नहीं किया है. आपको बता दें कि ईवीएम हैकिंग को लेकर चुनाव आयोग ने सभी पार्टियों को खुली चुनौती थी, लेकिन अभी तक किसी भी पार्टी की तरफ से कोई नामांकन नहीं हुआ है. चुनाव आयोग के प्रवक्ता ने गुरुवार देर शाम को बताया  कि अब तक किसी पार्टी ने किसी जानकार को ईवीएम चुनौती स्वीकार करने के लिए नामित नहीं किया है. इससे पहले 20 तारीख को आयोग ने घोषणा की थी कि 3 जून से ईवीएम चैलेंज

चुनाव आयोग द्वारा EVM हैकिंग चुनौती के लिए घोषित कुछ शर्तों को लेकर आम आदमी पार्टी ने आपत्ति जताई है. आप ने कहा की विशेषज्ञों को मशीनों को खोलने की पूर्ण आजादी दी जानी चाहिए. आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय सिंह ने कहा कि EVM हैकिंग के लिए शर्ते रखना वैसा ही है जैसे किसी को हाथ-पैर बांध कर तैरने के लिए कहना. उन्होंने कहा कि हमने अपने प्रदर्शन में दिखाया कि किस प्रकार EVM का मदरबोर्ड बदला जा सकता है लेकिन चुनाव आयोग ने उस पर रोक लगा दी. अगर आप लोगों को मशीनें देखने और चिप हटाने का मौका

दिल्ली ईवीएम पर गड़बड़ी को लेकर चुनाव आयोग सख्त हो गया है. मामले में कड़ा रुख अपनाते हुए आयोग ने ईवीएम का विरोध करने वालों को खुला चैलेंज दिया है. चुनाव आयोग ने सभी पार्टियों से कहा है कि वह रविवार को आकर बताएं कि कोई ईवीएम कैसे हैक हो सकती है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आयोग ने विरोध करने वाली पार्टियों को रविवार को बुलाया है और कहा कि वे आकर गड़बड़ी साबित करें. इससे पहले चुनाव आयोग ने बैठक में अपनी ओर से ईवीएम के सिक्योरिटी फीचर्स पर ब्योरा पेश किया. बैठक में 7 राष्ट्रीय और 35 राज्य स्तरीय राजनीतिक

दिल्ली आम आदमी पार्टी ने गुरुवार को इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) के मुद्दे पर चुनाव आयोग ऑफिस के आगे प्रदर्शन किया. दिल्ली के लेबर मिनिस्टर और आप नेता गोपाल राय ने कहा कि उन्होंने चुनाव आयोग के समक्ष अपनी तीन मांगे रखी हैं. उन्होंने कहा कि अगर चुनाव आयोग कहता है कि ईवीएम मशीन टैंपर नहीं की जा सकती तो हम मांग करते हैं कि हमें मशीन दी जाए और हम उसे हैक करके दिखाएंगे. गोपाल राय ने कहा, हम मांग करते हैं कि ईवीएम को लेकर जो सवाल उठ रहे हैं उनका जवाब दिया जाए. उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और पंजाब जैसे राज्यों