रामपुराफूल में नौ अगस्त को हुई किसान टेक सिंह खुदकुशी मामला गरमाता जा रहा है। किसानों ने आरोपी आढ़ती सुरेश कुमार की गिरफ्तारी की मांग की है। इसी को लेकर किसान यूनियन ने प्रशासन के खिलाफ जेठूके गांव के पास धरना दिया और चंडीगढ़-बठिंडा मुख्य मार्ग पर जाम लगा दिया। इस दौरान किसानों ने आरोपी आढ़तिए की सुरेश कुमार पर दर्ज मामला रद्द करने की मांग की। और बठिंडा-चंडीगढ़ रोड जाम कर दिया। आढ़तियों ने प्रशासन को पर्चा रद्द ना करने पर आंदोलन तेज करने की चेतावनी दी है।  

करनाल में अनशन पर बैठे जेबीटी टीचर्स ने अपना अनशन खत्म कर दिया है। शिक्षा विभाग के ज्वाइंट डायरेक्टर वीरेंद्र दहिया ने जूस पिलाकर जेबीटी टीचर्स का अनशन तुड़वाया। इस दौरान उन्होंने जेबीटी टीचर्स को  आश्वासन दिया कि उन्हें 15 अगस्त तक ज्वाइंनिंग लेटर दे दिए जाएंगे।

पंजाब, हरियाणा और दिल्ली में जीएसटी को लेकर कई शहरों में कपड़ा व्यापारियों का विरोध प्रदर्शन करेंगे। कपड़ा व्यापारी आज से तीन दिन तक कारोबार बंद रखेंगे। एक जुलाई से कपड़े पर पांच प्रतिशत जीएसटी लगेगा। कपड़ा व्यापारी जीएसटी लगाने का विरोध कर रहे हैं।

बिजली बोर्ड इंप्लाइज यूनियन ने बोर्ड मुख्यालय कुमार हाउस शिमला का घेराव किया। सैकड़ों की संख्या में प्रदेश भर से आए कर्मचारियों के विरोध के बाद हरकत में आए प्रबंधन ने यूनियन के पदाधिकारियों को वार्ता के लिए बुलाकर दो हफ्ते के भीतर मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया। यूनियन के महासचिव हीरालाल वर्मा ने बताया कि प्रबंधन ने दो हफ्ते के भीतर मांगों को सुलझाने के लिए बिजली बोर्ड निदेशक मंडल और सर्विस कमेटी की बैठक बुलाने की बात मानी है। यूनियन ने बोर्ड प्रबंधन को ग्रेड पे और अन्य मुद्दों को 14 जून तक हल करने का समय

लुधियाना में बीजेपी नेताओं ने कैप्टन सरकार के खिलाफ नारेबाजी की और उनके दो महीने के काम काज पर सवाल उठाए। इस दौरान बीजेपी जिला अध्यक्ष रविंदर अरोड़ा ने कहा कि पंजाब की नई सरकार के दो महीने पूरे हो गए है, लेकिन राज्य के हालात बदतर है। प्रदेश की कानून व्यवस्था लगातार बिगड़ती जा रही है। उन्होंने कहा कि कानून व्यवस्था बनाने के लिए उन्होंने डीसी प्रदीप अग्रवाल को मांग पत्र सौंपा है।

भारतीय किसान यूनियन ने शुक्रवार को चंडीगढ़-पंचकूला बॉर्डर पर धरना प्रदर्शन किया। किसान अपनी मांगों को लेकर सीएम आवास की ओर कूच कर रहे थे, लेकिन इन्हें चंडीगढ़ पुलिस ने मनीमाजरा के पास ही रोक दिया। इसके बाद एक प्रतिनिधिमंडल की मुलाकात सीएम के ओएसडी भूपेंद्र  सिंह से करवाई गई, लेकिन प्रतिनिधिमंडल ओएसडी के आश्वासन से खुश नहीं हुआ और मनीमाजरा में अनिश्चितकालीन धरना शुरू कर दिया। यूनियन के प्रधान गुरनाम सिंह चंढूनी ने कहा कि किसानों की मांग है कि सरकार द्वारा फसल बीमा योजना में या तो आग से हुए नुकसान का बीमा भी शामिल किया जाए या फिर बीमा