चुनाव आयोग द्वारा EVM हैकिंग चुनौती के लिए घोषित कुछ शर्तों को लेकर आम आदमी पार्टी ने आपत्ति जताई है. आप ने कहा की विशेषज्ञों को मशीनों को खोलने की पूर्ण आजादी दी जानी चाहिए. आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय सिंह ने कहा कि EVM हैकिंग के लिए शर्ते रखना वैसा ही है जैसे किसी को हाथ-पैर बांध कर तैरने के लिए कहना. उन्होंने कहा कि हमने अपने प्रदर्शन में दिखाया कि किस प्रकार EVM का मदरबोर्ड बदला जा सकता है लेकिन चुनाव आयोग ने उस पर रोक लगा दी. अगर आप लोगों को मशीनें देखने और चिप हटाने का मौका

चुनाव आयोग ने ईवीएम हैकिंग के आरोपों को सही साबित करने के लिए राजनीतिक दलों को खुली चुनौती देने की तैयारी कर ली है. आयोग इसकी तारीख, स्थान और रूपरेखाओं की घोषणा आज (शनिवार) दोपहर में करेगा. चुनौती के दौरान, राजनीतिक दलों और तकनीकी विशेषज्ञों को यह साबित करने का एक अवसर मिलेगा कि ईवीएम से छेड़छाड़ किया जा सकता है. आयोग के प्रवक्ता ने शुक्रवार को बताया कि मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम ज़ैदी के संवाददाता सम्मेलन से पहले आयोग वीवीपीएटी युक्त ईवीएम की कार्यप्रणाली का मीडिया के समक्ष सजीव प्रदर्शन करेगा. निर्वाचन आयोग की घोषणा के मुताबिक, ईवीएम वीवीपैट की कार्यप्रणाली प्रदर्शित

दिल्ली ईवीएम पर गड़बड़ी को लेकर चुनाव आयोग सख्त हो गया है. मामले में कड़ा रुख अपनाते हुए आयोग ने ईवीएम का विरोध करने वालों को खुला चैलेंज दिया है. चुनाव आयोग ने सभी पार्टियों से कहा है कि वह रविवार को आकर बताएं कि कोई ईवीएम कैसे हैक हो सकती है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आयोग ने विरोध करने वाली पार्टियों को रविवार को बुलाया है और कहा कि वे आकर गड़बड़ी साबित करें. इससे पहले चुनाव आयोग ने बैठक में अपनी ओर से ईवीएम के सिक्योरिटी फीचर्स पर ब्योरा पेश किया. बैठक में 7 राष्ट्रीय और 35 राज्य स्तरीय राजनीतिक

दिल्ली आम आदमी पार्टी ने गुरुवार को इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) के मुद्दे पर चुनाव आयोग ऑफिस के आगे प्रदर्शन किया. दिल्ली के लेबर मिनिस्टर और आप नेता गोपाल राय ने कहा कि उन्होंने चुनाव आयोग के समक्ष अपनी तीन मांगे रखी हैं. उन्होंने कहा कि अगर चुनाव आयोग कहता है कि ईवीएम मशीन टैंपर नहीं की जा सकती तो हम मांग करते हैं कि हमें मशीन दी जाए और हम उसे हैक करके दिखाएंगे. गोपाल राय ने कहा, हम मांग करते हैं कि ईवीएम को लेकर जो सवाल उठ रहे हैं उनका जवाब दिया जाए. उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और पंजाब जैसे राज्यों

दिल्ली आम आदमी पार्टी के प्रमुख अरविंद केजरीवाल पर भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद दिल्ली विधानसभा का मंगलवार को विशेष सत्र बुलाया गया. सत्र की शुरुआत ईवीएम से छेड़छाड़ के मुद्दे से हुई. सदन में पहले अलका लांबा ने यह मुद्दा उठाया और कहा कि अगर ईवीएम पर शक है तो क्या उसकी जांच होनी चाहिए. नई ईवीएम होते हुए भी एमसीडी चुनाव पुरानी मशीन से हुए. इसके बाद आप नेता सौरभ भारद्वाज ने ईवीएम से छेड़छाड़ का डेमो दिया. हालांकि वो असली ईवीएम की बजाय उसके जैसी दिखने वाली दूसरी मशीन लेकर आए थे. इससे पहले सदन में कार्यवाही शुरू होते ही भाजपा

चंडीगढ़ पंजाब यूनिवर्सिटी के 13वें एनुअल नेशनल कांफ्रेंस ऑन इलेक्टॉरल एंड पोलिटिक्ल रिफॉर्म्स में हिस्सा लेने चंडीगढ़ आए भारत के मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैदी ने आगामी चुनाव को लेकर बयान दिया है. उन्होंने कहा कि भारत में आने वाले सभी चुनाव वीवीपैट मशीनों से कराए जाएंगे. ईवीएम मशीनों पर उन्होंने कहा कि जल्द ही हम एक ऑल पार्टी मीटिंग बुलाने जा रहे हैं, जिसमें सभी राजनैतिक पार्टियों को समझाया जाएगा की ईवीएम मशीने नॉन टेम्पर हैं और उनसे छेड़खानी नहीं की जा सकती.

दिल्ली दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने चेतावनी दी है कि अगर एमसीडी चुनाव के नतीजे एग्जिट पोल्स के मुताबिक रहे तो वह आंदोलन छेड़ देंगे. दरअसल, अधिकतर एग्जिट पोल्स और चुनाव पूर्व कराए गए सर्वे में केजरीवाल की आम आदमी पार्टी को काफी कम सीटें मिलने की बात कही गई है. इसी को लेकर केजरीवाल ने एक बार फिर अपनी हार के लिए ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी किए जाने का मामला उठाया है. टि्वटर पर अपलोड किए गए एक विडियो में केजरीवाल अपने पार्टी के सदस्यों से कहते नजर आते हैं, 'अब अगर हम बुधवार को हारते हैं

दिल्ली हाईकोर्ट ने एमसीडी चुनावों में वीवीपैट के इस्तेमाल किए जाने की अपील खारिज कर दी है. आम आदमी पार्टी ने इस संबंध में हाईकोर्ट में अपील की थी. हाईकोर्ट ने कहा है कि ये संभव नहीं है कि चुनावों के ऐन पहले ऐसा कोई आदेश दिया जाए. जस्टिस ए के पाठक ने कहा है कि वोटर वेरीफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपैट) की सुविधा वाली ईवीएम की जेनरेशन 2 और जेनरेशन 3 की मशीनों को इतनी जल्दी चुनावी प्रक्रिया में नहीं लगाया जा सकता है. आम आदमी पार्टी की तरफ से हाईकोर्ट में ये अपील मोहम्मद ताहिर हुसैन ने दाखिल की थी. ताहिर