हिमाचल प्रदेश में 6 नवनिर्वाचित विधायकों ने ली शपथ

हिमाचल प्रदेश विधानसभा के लिए नवनिर्वाचित 6 विधायकों ने बुधवार को सदन की सदस्यता की शपथ ली। पूर्व मंत्री और धर्मशाला से भाजपा के विधायक सुधीर शर्मा ने सबसे पहले शपथ ली

हिमाचल प्रदेश : लोकसभा चुनाव, विधानसभा उपचुनाव के लिए मतगणना की तैयारी

हिमाचल प्रदेश में लोकसभा की चार सीट पर चुनाव और विधानसभा की छह सीट पर उपचुनाव के लिए मतगणना मंगलवार को होगी। मतगणना के दिन जिन प्रमुख उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला होगा, उनमें केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर, अभिनेत्री कंगना रनौत, चार बार के राज्यसभा सदस्य आनंद शर्मा और राज्य सरकार में मौजूदा लोक निर्माण कार्य मंत्री विक्रमादित्य सिंह शामिल हैं।

चार बार के सांसद और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उम्मीदवार ठाकुर हमीरपुर से पांचवी बार चुनाव मैदान में हैं। वहीं राजनीति में कदम रख रही कंगना मंडी से अपनी किस्मत आजमा रही हैं। भाजपा की राज्य इकाई के पूर्व अध्यक्ष सुरेश कश्यप शिमला सीट से चुनाव मैदान में हैं।

वहीं कांग्रेस के प्रमुख उम्मीदवारों में राज्यसभा के चार बार सदस्य रहे आनंद शर्मा कांगड़ा सीट से और पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह व कांग्रेस की राज्य इकाई की अध्यक्ष प्रतिभा सिंह के बेटे विक्रमादित्य सिंह मंडी सीट से चुनाव लड़ रहे हैं।

राज्य के 70 केंद्रों पर होने वाली मतगणना में 62 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला होगा।

राज्य निर्वाचन विभाग के अधिकारियों के मुताबिक, कांगड़ा संसदीय सीट पर 67.89 फीसदी, मंडी सीट पर 73.15 फीसदी, हमीरपुर में 71.56 फीसदी और शिमला (सुरक्षित) सीट पर 71.26 फीसदी मतदान हुआ था।

राज्य की जिन छह विधानसभा सीट पर उपचुनाव हुए, उनमें धर्मशाला में 71.2 प्रतिशत, लाहौल एवं स्पीति में 75.09 प्रतिशत, सुजानपुर में 73.76 प्रतिशत, बड़सर में 71.69 प्रतिशत, गगरेट में 75.14 प्रतिशत और कुटलैहड़ में 76.89 प्रतिशत मतदान हुआ।

कांग्रेस ने 1952, 1957, 1962, 1967, 1980, 1984 और 1996 में हुए लोकसभा चुनावों में हिमाचल प्रदेश की सभी सीट पर जीत हासिल की थी। ​​पार्टी ने 2004 में तीन, 1991 में दो और 1989 और 2009 में एक-एक सीट जीती, जबकि 1977, 1999, 2014 और 2019 में उसे सभी सीट पर हार का सामना करना पड़ा था।

वहीं जनता पार्टी और भाजपा-हिमाचल विकास कांग्रेस ने क्रमशः 1977 और 1999 में चुनावों में जीत हासिल की, जबकि भाजपा ने 2014 और 2019 में सभी चार सीट पर जीत दर्ज की थी।

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने हिमाचल में तारा देवी, संकट मोचन मंदिर के दर्शन किए

हिमाचल प्रदेश की पांच दिवसीय यात्रा पर आईं राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने मंगलवार को प्रसिद्ध तारा देवी मंदिर और संकट मोचन मंदिर में दर्शन किए।

मुर्मू अपने परिवार के सदस्यों और राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ला के साथ, यहां से लगभग 17 किलोमीटर दूर काफी ऊंचाई पर स्थित तारा देवी मंदिर के दर्शन करने गईं।

वह मंदिर में लंगर (भंडारे) में खाना खाने वाली देश की पहली राष्ट्रपति भी बनीं। मंदिर समिति ने उन्हें मंदिर का स्मृति चिन्ह भेंट किया।

इससे पहले, उन्होंने संकट मोचन मंदिर के दर्शन किए और इसके इतिहास में गहरी रुचि ली।

राज्यपाल ने उन्हें ‘राम दरबार’ की मूर्ति भेंट की।

उन्हें मंदिर के इतिहास के बारे में भी जानकारी दी गई।

इन मंदिरों में मंगलवार और रविवार को बड़ी संख्या में लोग आते हैं, लेकिन आज प्रवेश प्रतिबंधित होने के कारण भीड़ नहीं थी।

हिमाचल : शिमला में भूस्खलन में दो लोगों की मौत, बिलासपुर में बस पुल से गिरने पर 10 लोग घायल

शिमला के रोहड़ू इलाके में रविवार को एक ‘एसयूवी’ वाहन के भूस्खलन की चपेट में आ जाने पर दो यात्रियों की मौत हो गई। पुलिस ने यह जानकारी दी।

उसने बताया कि रविवार को बिलासपुर जिले में एक अन्य घटना में, हिमाचल सड़क परिवहन निगम (एचआरटीसी) की एक बस के पुल से फिसल जाने पर लगभग 10 लोग घायल हो गए।

पुलिस ने कहा कि रोहड़ू उपखंड में राष्ट्रीय राजमार्ग 707 पर हाटकोटी-पौंटा साहिब रोड पर स्नेल गांव के निकट भूस्खलन हुआ, जहां दो वाहन मलबे में फंस गए।

सूचना मिलने पर पुलिस और जिला प्रशासन की टीम मौके पर पहुंचीं और दोनों शवों को ‘एसयूवी’ वाहन से निकाला।

पुलिस ने बताया कि रोहड़ू तहसील के रहने वाले सतीश कुमार (52) और विशंभर शर्मा (50) की मौके पर ही मौत हो गई। शवों को सिविल अस्पताल रोहड़ू ले जाया गया, जहां पोस्टमॉर्टम होने के बाद उन्हें परिवारों को सौंप दिया गया।

बिलासपुर में बस दुर्घटना घ्याल गांव के पास चालक के वाहन से नियंत्रण खोने के बाद हुई। पुलिस ने बताया कि बस में करीब 25 यात्री सवार थे। उसने बताया कि सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और घायल यात्रियों को बचाया।

पुलिस ने बताया कि सात घायलों को एम्स बिलासपुर में ले जाया गया है, जबकि तीन अन्य को मार्कंड के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया है।

विधानसभा अध्यक्ष ‘निर्दलीय विधायकों के इस्तीफे स्वीकार करें’ : हिमाचल उच्च न्यायालय

हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय ने बृहस्पतिवार को विधानसभा अध्यक्ष को तीन बागी निर्दलीय विधायकों के इस्तीफे तुरंत स्वीकार करने का निर्देश दिया और मामले की सुनवाई 30 अप्रैल तक के लिए स्थगित कर दी। हालांकि प्रदेश कांग्रेस ने उनके खिलाफ दल-बदल निरोधक कानून के तहत कार्रवाई की मांग की है।

विधानसभा अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानिया के पास दायर एक नयी याचिका में कांग्रेस विधायकों- जगत सिंह नेगी और हरीश जनार्था ने दलील दी कि इन विधायकों के इस्तीफे स्वीकार न होने के बावजूद इन्होंने भारतीय जनता पार्टी का दामन थामा और ऐसा करना दल-बदल निरोक कानून के तहत कार्रवाई के योग्य है।

तीन निर्दलीय विधायकों- होशियार सिंह, आशीष शर्मा और केएल ठाकुर ने 27 फरवरी को राज्यसभा चुनाव में भाजपा उम्मीदवार हर्ष महाजन के पक्ष में मतदान किया था। इन विधायकों ने 22 मार्च को विधानसभा से इस्तीफा दे दिया था और अगले दिन भाजपा में शामिल हो गए थे।

नेगी ने बृहस्पतिवार को यहां मीडिया से कहा, ‘‘निर्दलीय विधायक किसी भी पार्टी में शामिल नहीं हो सकते हैं और यदि वे ऐसा करते हैं तो वे दल-बदल निरोधक कानून के तहत कार्रवाई के लिए उत्तरदायी हैं और हमने अध्यक्ष से ऐसी कार्रवाई करने का आग्रह किया है।’’

अध्यक्ष ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया, ‘‘कांग्रेस नेताओं की नयी याचिका पर प्रक्रिया शुरू हो गई है और तीन निर्दलीय विधायकों को याचिका की प्रति के साथ नोटिस जारी किया गया है तथा चार मई तक जवाब देने को कहा गया है।’’

इस बीच विधायकों की ओर से पेश महाधिवक्ता अनूप रतन ने कहा कि उनके मुवक्किलों की दलीलें आज पूरी हो गईं और अध्यक्ष के वकील अगली सुनवाई पर अपनी दलील पेश करेंगे।

विधानसभा अध्यक्ष ने पहले इन विधायकों को ‘‘कारण बताओ नोटिस’’ जारी किये थे और 10 अप्रैल तक उनसे स्पष्टीकरण मांगा था।

याचिकाकर्ताओं का कहना है कि उन्होंने स्वेच्छा से इस्तीफा दिया है और उनका इस्तीफा तुरंत स्वीकार किया जाना चाहिए था।

हिमाचल: तीन निर्दलीय विधायकों ने उच्च न्यायालय का रुख किया

हिमाचल प्रदेश में तीन निर्दलीय विधायकों ने विधानसभा से उनके इस्तीफे स्वीकार किये जाने के अनुरोध को लेकर बुधवार को उच्च न्यायालय का रुख किया।

इन निर्दलीय विधायकों ने हाल के राज्यसभा चुनाव में भाजपा उम्मीदवार को वोट दिया था।

तीन निर्दलीय विधायकों होशियार सिंह, आशीष शर्मा और के. एल. ठाकुर ने 27 फरवरी को हुए राज्यसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) उम्मीदवार हर्ष महाजन के पक्ष में मतदान किया था और 22 मार्च को विधानसभा से इस्तीफा दे दिया था।

कांग्रेस विधायक दल के एक अभ्यावेदन के बाद हिमाचल प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानिया ने इन विधायकों को कारण बताओ नोटिस जारी कर 10 अप्रैल तक स्पष्टीकरण मांगा था, जिसमें दावा किया गया था कि इन विधायकों ने स्वेच्छा से नहीं बल्कि दबाव में इस्तीफा दिया है।

अध्यक्ष ने बुधवार को कहा कि तीन निर्दलीय विधायकों के इस्तीफे पर तब तक फैसला नहीं लिया जा सकता, जब तक कि अदालत में मामले का फैसला नहीं आ जाता।

मुख्य न्यायाधीश एम एस रामचन्द्र राव और न्यायमूर्ति आनंद मोहन गोय

बहुमत अभी भी कांग्रेस के साथ: हिमाचल विधानसभा अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानिया

हिमाचल प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानिया ने कहा कि संसदीय कार्य मंत्री ने राज्यसभा चुनाव में क्रॉस वोटिंग करने वाले 6 कांग्रेस विधायकों के खिलाफ याचिका दायर की है। उन्होंने कहा कि बहुमत अभी भी कांग्रेस पार्टी के पास है। राज्य में कांग्रेस सरकार 6 विधायकों के पाला बदलने और भाजपा के संपर्क में… Continue reading बहुमत अभी भी कांग्रेस के साथ: हिमाचल विधानसभा अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानिया

हिमाचल प्रदेश के ऊंचाई वाले इलाकों में हल्की बर्फबारी, न्यूनतम तापमान शून्य से 7.3 डिग्री सेल्सियस नीचे लुढ़का

हिमाचल प्रदेश के कुल्लू, किन्नौर और लाहौल व स्पीति जिलों के ऊंचाई वाले इलाकों और पर्वत श्रृंखलाओं में बीते 24 घंटों में हल्की बर्फबारी हुई। मौसम केंद्र के मुताबिक, किन्नौर जिले के कल्पा में 0.2 सेमी तथा सांगला में 0.1 सेमी बर्फबारी हुई। मौसम विभाग के मुताबिक, 16 दिसंबर से एक ताजा पश्चिमी विक्षोभ, हिमालयी… Continue reading हिमाचल प्रदेश के ऊंचाई वाले इलाकों में हल्की बर्फबारी, न्यूनतम तापमान शून्य से 7.3 डिग्री सेल्सियस नीचे लुढ़का

Himachal Cabinet: CM सुक्खू के मंत्रियों के विभागों का हुआ बंटवारा, पढ़िए किसे क्या मिली जिम्मेदारी

लंबे इंतजार के बाद हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने अपने कैबिनेट सदस्यों के बीच बुधवार को विभागों का बंटवारा कर दिया है। बताए आपको राज्य मंत्रिमंडल का विस्तार करने के चार दिन बाद मुख्यमंत्री सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने बीती रात करीब साढ़े नौ बजे विभागों का बंटवारा किया है। मुख्यमंत्री सुक्खू ने… Continue reading Himachal Cabinet: CM सुक्खू के मंत्रियों के विभागों का हुआ बंटवारा, पढ़िए किसे क्या मिली जिम्मेदारी

हिमाचल प्रदेश दिवस आज, दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल ने दी बधाई, कहा-“हिमाचल को तरक्की के रास्ते पर लेकर जाना है”

प्राकृतिक सौंदर्य और कई सारी ऐसी बातें है कि जिनकी वजह से हिमाचल की भारत में अपनी पहचान हैं, वहीं प्रदेश में पॉलिथीन और तंबाकू पर बैन लगाने के बाद उसे सही तरीके से लागू करने में भी सभी आगे हैं। हिमाचल दिवस पर आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने प्रदेश वासियों… Continue reading हिमाचल प्रदेश दिवस आज, दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल ने दी बधाई, कहा-“हिमाचल को तरक्की के रास्ते पर लेकर जाना है”