फतेहाबाद की हंस मार्केट में स्कूली छात्रों की गुंडागर्दी का मामला सामने आया है। हादसे में एक युवक पर छह छात्रों ने डंडों से हमला कर दिया। आसपास के लोगों ने बीच बचाव कर के युवक को छात्रो से छुड़वाया। मारपीट की ये पूरी वारदात सीसीटीवी में कैद हो गई। वहीं, पीड़ित युवक को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

फतेहाबाद के नढ़ोडी में ग्रामीण बिजली की समस्या से परेशान हैं। बिजली के लंबे कटों से नाराज ग्रामीण सरपंच के साथ बिजली विभाग के दफ्तर पहुंचे, लेकिन वहां बिजली विभाग का ऑपरेटर दो लोगों के साथ शराब पीता हुआ पकड़ा गया। गुस्साए ग्रामीणों ने ऑपरेटर को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया जबकि बाकी दो लोग भागने में कामयाब रहे। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।

फतेहाबाद की कबीर बस्ती में एक परिवार पर मामूली कहासुनी के चलते पड़ोसियों ने हमला कर दिया। सिर्फ यही नहीं जब पीड़ित परिवार इलाज के लिए अस्पताल में पहुंचा, तो हमलावर भी अस्पताल में पहुंच गए और पीड़ित परिवार से मारपीट की। हमलावरों ने अस्पताल में जमकर तोड़-फोड़ की। ये सारी वारदात अस्पताल में लगे सीसीटीवी में कैद हो गई। घायलों में दो महिलाएं और दो युवक शामिल हैं। फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

फतेहाबाद की बत्रा कॉलोनी में एक महिला मंदिर की चोटी पर चढ़ गई। महिला स्थानीय निवासी है। महिला को मंदिर की चोटी से नीचे उतारने को लेकर पुलिस की ओर से काफी मशक्कत की गई लेकिन महिला फतेहाबाद के एसपी कुलदीप सिंह से बात करने की बात पर अड़ी रही।   हालांकि, बाद में महिला के पिता मौके पर पहुंचे और महिला को समझा बुझाकर नीचे उतारा। बताया जा रहा है कि पिछले कई दिनों से ये महिला मंदिर की चोटी पर चढ़कर हंगामा कर रही थी।

फतेहाबाद सीआईए पुलिस ने एटीएम बदलकर ठगी करने वाले गिरोह के एक सदस्य को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने इसके पास से छत्तीस हजार रुपए भी बरामद किए हैं। आरोपी हरियाणा और पंजाब में दर्जनों वारदातों को अंजाम दे चुका है, और अब तक करीब छह लाख से अधिक रुपए लोगों के अकाउंट से निकाल चुका है। इस गिरोह ने रतिया के सुखपाल का एटीएम कार्ड बदला था। इससे आरोपियों ने सत्तर हजार रुपए से ज्यादा की शॉपिंग की। पुलिस ने बताया कि ठगों की सीसीटीवी फुटेज सामने आने का बाद पुलिस ने कार्रवाई तेज कर दी। जिसके बाद सूचना के

फतेहाबाद पुलिस की ओर से लिंग जांच के झूठे मामले में फंसाकर पैसे हड़पने के मामले में हिसार रेंज के आईजी ने कार्रवाई की है। आईजी ने चार पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है। स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के मामले में संज्ञान लेने के बाद पुलिस ने फौरन कार्रवाई की है। दरअसल, पीड़ित ने मामले से जुड़े सबूत के तौर पर पुलिसकर्मियों की रिश्वत लेते वीडियो सौंपा था। पीड़ित का आरोप है कि पुलिसकर्मियों ने उसे झूठे केस में फंसाने के नाम पर पंद्रह लाख रूपए एेंठे थे।