नंगल में पुलिस को नशे के खिलाफ जारी मुहिम में कामयाबी मिली है. नंगल पुलिस ने नशीले पदार्थ के साथ एक व्यक्ति को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया. आरोपी के पास से दो किलो नशीला पाउडर भी बरामद किया गया. वहीं, कोर्ट ने आरोपी को दो दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया.

अमृतसर पुलिस के हाथ उस वक्त बड़ी कामयाबी लगी, जब उसने शहर में हेरोइन सप्लाई करने वाले एक बड़े गिरोह के चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार किए गए चार लोगों में दो सगे भाई बताए जा रहे हैं, जो इस गिरोह के सरगना है। पुलिस का दावा है कि इन लोगों ने अपना अड्डा छेहार्टा इलाके में बनाया हुआ था और यहीं से शहर में नशीले पदार्थों की सप्लाई करते थे।  

पुलिस और सुरक्षाबलों की ओर से सीमा पार से आने वाले नशीले पदार्थों की तस्करी को रोकने के लिए समय-समय पर अभियान चलाया जाता है. शुक्रवार को बारामूला पुलिस और सुरक्षा बलों ने संयुक्त कार्रवाई के तहत भारत आ रहे एक ट्रक से 25 किलो नारकोटिक्स ड्रग्स जब्त किया है. यह ड्रग्स क्रॉस बॉर्डर ट्रेड के उद्देश्य से पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) से भारत भेजी जा रही थी. पुलिस ने आरोपी ट्रक ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस उससे पूछताछ कर रही है. बताते चलें कि बीते दिनों भी पंजाब में पाकिस्तान से आई हेरोइन की खेप को बरामद किया गया

नशा, गैंगस्टर व आतंकवाद के हिमायती गर्मख्याली (रेडिकल्स स्पांसर टेरेरिज्म) पंजाब में पुलिस के लिए बड़ी चुनौती हैं, लेकिन पंजाब पुलिस पूरी तरह से इन पर नकेल कसने में जुटी हुई है. पंजाब के घर-घर से नशे को खत्म करने व नशा तस्करों को जेल की सलाखों के पीछे पहुंचाने के लिए मुहिम जारी है. यह बात डीजीपी सुरेश अरोड़ा ने वीरवार को कही. पुलिस लाइन में जिले के पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक करके उन्होंने क्राइम को कम करने संबंधी योजनाओं पर अमल करने, नशा तस्करों पर सख्ती से नकेल डालने, पुलिस स्टेशनों की नियमित जांच करने सहित अन्य महत्वपूर्ण

नशे के खिलाफ चलाई गई मुहिम में लगातार मिल रही सफलता के मद्देनजर मोगा सीआईए पुलिस ने दो नशा तस्करों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों के पास से दो किलो अफीम बरामद हुई है। एएसआई गुरमेल सिंह ने बताया कि पुलिस नाके के दौरान शक के आधार पर दो लोगों की तलाशी ली गई, तो उनके पास एक काले लिफाफे में दो किलो अफीम बरामद हुई। पुलिस ने मामला दर्ज कर दोनों नशा तस्करों को कोर्ट में पेश किया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया।

पंजाब में नशा तस्करी के खिलाफ मुहिम में तेजी लाते हुए एसटीएफ स्टाफ ने मानसा और फरीदकोट से नशा तस्करों को गिरफ्तार किया है। मानसा में हेरोइन की खेप के साथ एक नाईजीरियन समेत तीन नशा तस्कर पकड़े गए हैं। पुलिस ने बताया कि आरोपी को पास से 770 ग्राम हेरोइन बरामद की गई है, जिसकी कीमत करीब चार करोड़ है। वहीं, फरीदकोट के डोगर बस्ती में एक घर में तलाशी के दौरान करीब 11 हजार के नशीली दवाईयां बरामद की गई हैं। पुलिस ने मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया है, जिसे कोर्ट ने पुलिस रिमांड पर भेज

पंजाब पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स ने नशा तस्करों की मदद करने वाले अपने ही विभाग के इंस्पेक्टर इंदरजीत सिंह और एएसआई अजैब सिंह को गिरफ्तार किया है। कपूरथला में तैनात इंदरजीत सिंह और अजैब सिंह पर नशा तस्करों की मदद करने का आरोप है। एसटीएफ ने आरोपियों के कब्जे से चार किलो हेरोइन, तीन किलो स्मैक, एक अवैध पिस्तौल और भारी संख्या में गोलियां बरामद की हैं। इसके आलवा आरोपियों ने 16 लाख रुपए की नगदी और एक इनोवा कार भी बरामद की है। फिलहाल आरोपियों के खिलाफ कई धाराओं मे तहत मामला दर्ज कर लिया है। अब इस बात

हिमाचल प्रदेश के ऊना की पुलिस ने ड्रग तस्करी के एक बड़े रैकेट का भांडाफोड़ किया है. पुलिस ने इस मामले में एक नाइजीरिया के व्यक्ति को गिरफ्तार किया है. दो स्थानीय व्यक्तियों की निशानदेही पर नाइजीरियायी को दिल्ली से गिरफ्तार किया गया. पुलिस ने आरोपी नाइजीरियायी के कमरे से 60 ग्राम हेरोइन, 142 ग्राम सफेद नशीला पदार्थ, 60 ग्राम काला मादक पदार्थ और करीब 2 ग्राम गांजा बरामद किया है, जिसकी कीमत बाज़ार में करोड़ों रुपये आंकी जा रही है. गिरफ्तार स्थानीय आरोपियों में से एक बीटेक का छात्र है जबकि दूसरा एक प्रतिष्ठित ऑटो इंडस्ट्री में काम करता है. पुलिस

जिस हरियाणा के युवा की पहचान हर क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन को लेकर होती है वही अब नशे के दलदल में फंसते जा रहे हैं। हालांकि राज्य पुलिस हर वर्ष हजारों मामले दर्ज करती है, नशा मुक्ति केंद्र भी सुधारने का प्रयास करते है लेकिन फिर भी युवाओं में नशे की लत बढ़ती जा रही है। हरियाणा में स्वास्थ्य विभाग, सामाजिक अधिकारिता विभाग, एन.जी.ओ., गैर-सरकारी और पी.जी.आई. एम.एस. रोहतक की ओर से नशा मुक्ति केन्द्र चलाए जा रहे हैं। पी.जी.आई. रोहतक की ओर से राज्यस्तरीय नशा मुक्ति केंद्र के आंकड़ों पर अगर गौर करें तो राज्य में नशीले पदार्थों का इस्तेमाल

कुल्लू में न्यायालय ने रस तस्करी के 2 मामलों में 2 लोगों को दोषी करार देते हुए उनके खिलाफ 10-10 वर्ष कठोर कारावास की सजा का फैसला सुनाया है। पहले मामले में विशेष न्यायाधीश (2) जिया लाल आजाद की अदालत ने बुध राम पुत्र सोनम निवासी हाथीथान को चरस तस्करी के मामले में दोषी करार देते हुए 10 वर्ष कठोर कारावास और एक लाख रुपए जुर्माना की सजा सुनाई। जुर्माना अदा न करने उसे 2 वर्ष का अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा। मामले के अनुसार 26 मार्च, 2014 को सब इंस्पैक्टर रमेश पराशर ने सी.आई.डी. यूनिट के अन्य कर्मचारियों के साथ