वैश्विक स्तर पर जलवायु परिवर्तन के चलते पंजाब और हरियाणा में धान के उत्पादन में बड़ी गिरावट देखने को मिल सकती है। वहीं, दूसरी तरफ दोनों राज्यों में इसी अवधि के दौरान आलू के उत्पादन में इजाफा हो सकता है। यही नहीं क्लाइमेट चेंज के चलते भविष्य में दूध के उत्पादन में भी कमी आ सकती है। गुरुवार को लोकसभा में कृषि पर संसद की स्टैंडिंग कमिटी की ओर से पेश रिपोर्ट में यह बात कही गई है। रिपोर्ट के मुताबिक क्लाइमेट तेंज के चलते 2030 तक हरियाणा, पंजाब, पश्चिम और मध्य उत्तर प्रदेश में आलू का उत्पादन 3.46% से बढ़कर

यूकॉन क्लाइमेट चेंज का बेहद बुरा असर अब दुनिया की नदियों पर भी होने लगा है. मौसम में बदलाव के कारण कनाडा में बहने वाली स्लिम्स नदी सिर्फ चार दिन में ही 'गायब' हो गई. अनुसंधानकर्ता इसे क्लाइमेंट चेंज की मार बता रहे हैं. वैज्ञानिक कुदरत के इस कमाल को 'रिवर पाइरेसी' (नदी की चोरी) का नाम दे रहे हैं. कास्कावुल्श ग्लैशियर से निकलने वाली 150 मीटर चौड़ी स्लिम्स नदी सैकड़ों से सालों से बह रही थी. द गार्जियन की रिपोर्ट के मुताबिक, मौसम में आए बदलाव की वजह से ग्लैशियर की बर्फ काफी तेजी से पिघली जिससे नदी के पानी का