घाटी में शांति स्थापना और हालात का जायजा लेने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह बुधवार को कश्मीर के दो दिनों के दौरे पर रवाना हो गए। पिछले एक महीने में उनका घाटी का यह दूसरा दौरा है। अपनी यात्रा के दौरान वह जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती, विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं और प्रशासन के अधिकारियों से मिलेंगे। सूत्रों ने कहा कि गृहमंत्री घाटी के लोगों से भावनात्मक जुड़ाव कायम करने का प्रयास भी करेंगे। राजनाथ पिछले महीने की 24 तारीख को भी दो दिन के लिए श्रीनगर गए थे। उस समय उन्होंने महबूबा मुफ्ती के अलावा कई राजनीतिक दलों

त्योहारों को लेकर रेलवे ने सोमवार को जम्मू तक चलने वाली लंबी दूरी की तीन और ट्रेनों के विस्तार का एलान किया है। रेलवे त्योहारों में यात्रियों की बढ़ती संख्या को ध्यान में रखते हुए ही ट्रेनों का विस्तार कर रहा है। आज की तीन ट्रेनों को मिलाकर रेलवे ने छह ट्रेनों के विस्तार का एलान कर दिया है।

जम्मू कश्मीर के व्यापारियों का पिछले 45 दिनों में करीब 35 सौ करोड़ रुपये का व्यापार प्रभावित हुआ है। इसमें जम्मू के व्यापारियों का ही कश्मीर के व्यापारियों को एडवांस में दिया गया एक हजार करोड़ रुपये का नुकसान भी शामिल है। घाटी के कारण जम्मू कश्मीर के व्यापार को काफी नुकसान उठाना पड़ा है। कश्मीर में ही करीब दो हजार करोड़ रुपये के उत्पादन का नुकसान हुआ है। जबकि जम्मू के व्यापारियों का फल एवं ड्राई फ्रूट उत्पादकों को दिए गए एक हजार करोड़ रुपये प्रभावित हुए हैं।

कश्मीर में 45 दिनों से जारी हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही। अब हिंसा का असर पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी पड़ा है। हिंसा की वजह से दक्षिणी कश्मीर के 36 थानों में से 33 थानों को बंद कर दिया गया है। दरअसल दक्षिणी कश्मीर में चार जिले पुलवामा, शोपियां, कुलगाम और अनंतनाग आते हैं। बुरहान वानी के मारे जाने के बाद से सबसे पहले हिंसा इन्हीं इलाकों में शुरू हुई।

मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा है कि कश्मीर की हिंसा पूर्वनियोजित है और यह मुट्ठी भर लोगों की साजिश का नतीजा है। एनकाउंटर को बहाना बनाकर कुछ लोगों ने हालात खराब किए। उन्होंने कहा कि जो आजादी कश्मीर के लोगों को नसीब है वह पाकिस्तान, अफगानिस्तान, तुर्की और सीरिया जैसे इस्लामिक देशों में रहने वालों को नहीं है। उन्होंने कहा कि ये देश आजाद हैं, लेकिन, वहां के लोगों की हालत अच्छी नहीं है।

नागा उग्रवादियों के खिलाफ जून 2015 में भारतीय सेना के कमांडो दस्ते के म्यांमार ऑपरेशन को लेकर नेशनल सोसलिस्ट काउंसिल ऑफ नागालैंड के एसएस खापलांग धडे़ (एनएससीएन-के) ने दावा किया है कि उस ऑपरेशन में सेना के 5 से 6 कमांडो शहीद हुए थे। एनएससीएन-के ने हिन्दुस्तान टाइम्स को भेजे एक ईमेल में कमांडो के मारे जाने का दावा किया है। हालांकि सेना इस कार्रवाई में किसी भी कमांडो के शहीद होने की पुष्टि नहीं की है। 40 मिनट में अंजाम दिया गया पूरा ऑपरेशन भारतीय सेना के 30 कमांडो के एक दल ने म्यांमार सीमा के भीतर रात के अंधियारे में लक्ष्य

कार्यकाल पूरा कर चुकी पंचायतों के अधिकार सरकार ने ब्लॉक विकास अधिकारी (बीडीओ) और पंचायत सचिवों को सौंप दिए हैं। मंगलवार को राज्य सरकार ने पंचायतों को भंग करने की अधिसूचना जारी कर दी। अगले चुनाव न होने तक पंचायतों का कार्यभार ग्रामीण विकास विभाग के बीडीओ और पंचायत सचिवों के पास रहेंगे। सरकार ने जम्मू एंड कश्मीर पंचायत राज एक्ट 1989 की धारा पांच के तहत ग्रामीण विकास विभाग के निदेशकों को आदेश जारी किया है। आदेश के तहत ग्रामीण विकास विभाग के अधिकारियों को पंचायत स्तर के कामकाज का जिम्मा संभालना होगा। जम्मू-कश्मीर में कुल 4198 ग्राम पंचायतें हैं जिनमें

हिजबुल कमांडर बुरहान वानी की मौत के बाद से कश्मीर घाटी में शुरू हिंसा अभी तक जारी है। बुधवार को भी कश्मीर घाटी के दसों जिलों में कर्फ्यू जारी है। कर्फ्यू जारी होने की वजह से लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। स्थानीय लोगों का कहना है कि उनके घर में राशन की किल्लत बढ़ती जा रही है। वहीं बुधवार को भी घाटी के कुछ इलाकों में हिंसक प्रदर्शन होने की खबर है, हालांकि अभी तक इसमें कोई भी व्यक्ति घायल नहीं हुआ है। प्रशासन ने हालात को नियंत्रण में करने के लिए सुरक्षा के कड़ इंतजाम किए

48 घंटे के अंदर दूसरी बार आतंकियों ने सुरक्षा बलों को निशाना बनाकर हमला किया। इस हमले में सेना के दो और जम्मू-कश्मीर पुलिस का एक जवान शहीद हो गए। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक सेना का काफिला बुधवार सुबह श्रीनगर से बारामूला की ओर जा रहा था। इसी दौरान घात लगा कर बैठे आतंकियों ने सेना के काफिले पर हमला कर दिया। इस हमले में सेना के दो जवान शहीद हो गए जबकि पांच अन्य जवान घायल हो गए। वहीं मौके पर तैनात जम्मू-कश्मीर पुलिस का एक जवान भी शहीद हो गया। हमले के तुरंत बाद जवानों ने मोर्चा संभालते

बीती रात जम्मू कश्मीर के पुलवाला और बारामूला में आतंकियों के डबल अटैक में सेना के दो जवान समेत 3 सुरक्षाबल शहीद हो गए। आतंकियों को पकड़ने के लिए सेना सघन अभियान चला रही है। वहीं घाटी में लगातार जारी हिंसा के बीच आज थलसेना प्रमुख जनरल दलबीर सुहाग जम्मू के दौरे पर पहुंच रहे हैं। खबरों के मुताबिक, बीती रात 2.30 बजे बारामूला के ख्वाजाबाघ इलाके में आतंकियों ने सेना के काफिले पर हमला बोल दिया। इसमें सेना के दो जवानों की मौत हो गई जबकि दो घायल हो गए। अधिकारियों के मुताबिक एक पुलिसकर्मी की भी मौत हो गई