दिल्ली के रोहिणी में पुलिस ने मुठभेड़ के बाद गैंगस्टर को गिरफ्तार किया

दिल्ली के रोहिणी सेक्टर 34 में बृहस्पतिवार को राज्य पुलिस के विशेष प्रकोष्ठ की एक टीम ने नीरज बवाना-नवीन बाली गिरोह के एक सदस्य को मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने यह जानकारी दी।

एक अधिकारी ने बताया कि राहुल डबास हत्या के मामले में वांछित था और हत्या के प्रयास व फिरौती के सात अन्य मामलों में कथित तौर पर शामिल था।

अधिकारी ने बताया, ”विशेष प्रकोष्ठ की एक टीम को सूचना मिली थी कि गैंगस्टर बृहस्पतिवार को रोहिणी सेक्टर 34 में किसी से मिलने आ रहा है। जाल बिछाया गया लेकिन उसने पुलिस को देख हमारी टीम पर गोलियां चलाईं।”

अधिकारी ने बताया कि टीम के सदस्यों ने बुलेट प्रूफ जैकेट पहनी हुई थीं, जिस वजह से कोई घायल नहीं हुआ।

उन्होंने बताया कि डबास को गिरफ्तार कर पूछताछ की गई। अधिकारी ने बताया कि उसके पास से एक बन्दूक बरामद की गई है। पुलिस ने बताया कि वह दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद गैंगस्टर नीरज बवाना और नवीन बाली का करीबी सहयोगी है।

दिल्ली : घर में मृत पाए गए भाई-बहन, मां घायल; पिता की लाश रेल पटरी पर मिली

पूर्वी दिल्ली में नौ साल की एक लड़की और उसका किशोर भाई शनिवार को अपने घर में मृत पाए गए तथा उनकी मां घायल अवस्था में मिली, जबकि उनके पिता का शव नजदीक ही रेल पटरी पर मिली है। पुलिस ने यह जानकारी दी।

पुलिस के मुताबिक उन्हें अपराह्न दो बजे पांडव नगर के शशि गार्डन निवासी श्याम (42) के बारे में फोन आया कि वह लापता हैं और उनका घर शुक्रवार से बंद है।

पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि सूचना मिलने पर पुलिसकर्मियों की एक टीम तुरंत मौके पर पहुंची और घर को बाहर से बंद पाया और घर के अंदर से बदबू आ रही थी। घर के अंदर जाने पर उन्होंने 15 वर्षीय एक लड़के और नौ वर्षीय एक लड़की को मृत पाया और उनकी मां एक कमरे में बेहोश पड़ी थी।

उन्होंने बताया कि पीड़ितों को अस्पताल ले जाया गया जहां चिकित्सकों ने बच्चों को मृत घोषित कर दिया, जबकि महिला का इलाज चल रहा है।

अधिकारी ने बताया कि पुलिस मामले की जांच कर रही थी तभी उसे सूचना मिली कि श्यामजी का शव उसके घर के पास रेल पटरी पर मिला है।

पुलिस के एक अन्य अधिकारी ने कहा, ऐसा संदेह है कि श्याम ने अपने बच्चों की हत्या कर दी, अपनी पत्नी पर हमला किया और ट्रेन के सामने कूदकर अपनी जान दे दी।

पूर्वी दिल्ली के फ्लैट में महिला और भाई मृत मिले, पति गिरफ्तार

पूर्वी दिल्ली के शकरपुर इलाके में एक व्यक्ति ने पेंचकस से हमला कर अपनी पत्नी और उसके भाई की कथित रूप से हत्या कर दी। पुलिस ने बुधवार को यह जानकारी दी।

पुलिस उपायुक्त (पूर्वी दिल्ली) अपूर्वा गुप्ता ने बताया कि गाजियाबाद के एक स्कूल में शिक्षिका कमलेश होल्कर (29) और राम प्रताप सिंह (18) बुधवार की सुबह शकरपुर की एक आवासीय इमारत की दूसरी मंजिल पर खून से लथपथ पाये गये।

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि प्रथम दृष्टया ऐसा प्रतीत होता है कि कमलेश और उसके पति श्रेयांस कुमार पाल के बीच मंगलवार रात को किसी बात को लेकर बहस हुई होगी, जिसके बाद आरोपी ने महिला और उसके भाई की हत्या कर दी।

अधिकारी ने बताया कि सिंह, दंपति के दो वर्षीय बेटे का जन्मदिन मनाने के लिए उत्तर प्रदेश से यहां आया था।

उन्होंने बताया कि पाल सुबह लापता था लेकिन बाद में वह जांच में शामिल हो गया और उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

अधिकारी ने बताया, ”उससे पूछताछ की जा रही है।”

उन्होंने बताया कि पाल पेशे से एक इंजीनियर है लेकिन फिलहाल बेरोजगार है।

अधिकारी के मुताबिक, आरोपी के पिता भारतीय वायु सेना से सेवानिवृत्त हुए हैं और उसकी मां दिल्ली के बिजली विभाग में काम करती हैं। उन्होंने बताया कि आरोपी का छोटा भाई अपनी पत्नी और बच्चों के साथ उसी इमारत की पहली मंजिल पर रहता है।

अधिकारी ने बताया कि परिवार के सभी सदस्यों के बयान लिए जा रहे हैं और मामले की जांच की जा रही है।

दिल्ली पुलिस ने लग्जरी गाड़ियां चुराने और बेचने के आरोप में महिला को गिरफ्तार किया

दिल्ली पुलिस ने महंगी कारें चुराने और बेचने के आरोप में बिहार से 37 वर्षीय एक महिला को गिरफ्तार किया है।

पुलिस उपायुक्त (पूर्वी दिल्ली) अपूर्वा गुप्ता ने मंगलवार को बताया कि आरोपी की पहचान लवली सिंह के रूप में हुई है, जो बिहार के पाटिलपुत्र की रहने वाली है। उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष उसके पति गोविंद की गिरफ्तारी के बाद एक अभियान शुरू किया गया था, और तीन अप्रैल को उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

अधिकारी ने बताया, ”पूछताछ में गोविंद ने खुलासा किया था कि उसकी पत्नी लवली ने दिल्ली से कई लग्जरी गाड़ियां चुराई थीं और उन्हें बिहार व झारखंड में बेचा था।”

उन्होंने बताया कि लवली को गिरफ्तार करने के लिए कई टीमें बनाई गयी थीं लेकिन बार बार ठिकाना बदलने की वजह से वह पुलिस की गिरफ्त से बाहर थी।

अपूर्वा ने बताया कि लवली जानी-मानी सोसायटियों में भी रहती थी ताकि उस पर किसी को शक न हो।

अधिकारी ने बताया, ”लवली के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया गया था और अदालत ने उसे 20 दिसंबर 2023 को भगोड़ा अपराधी घोषित किया था। तीन अप्रैल को लवली को पाटिलपुत्र इलाके से गिरफ्तार किया गया और उसे हिरासत में ले लिया गया।”

डीसीपी के अनुसार, पूछताछ के दौरान लवली ने पुलिस को बताया कि स्नातक की पढ़ाई पूरी करने के बाद, उसने एक बीमा कंपनी में काम किया, जहां उसकी मुलाकात चोरी के वाहनों की खरीद-फरोख्त करने वालों से हुई।

उन्होंने कहा, “वह और उसका पति गोविंद चोरी के वाहनों की खरीदी बिक्री करने लगे। उसने बताया कि उसे 2021 में वाहन चोरी और डकैती से जुड़े एक मामले में झारखंड के रांची में गिरफ्तार किया गया था।”

उसने गाड़ियां चुराने वालों से और ऐसे वाहनों की खरीदी बिक्री करने वाले दूसरे लोगों से भी संपर्क स्थापित किया।

डीसीपी ने बताया कि पुलिस ने टोयोटा फॉर्च्यूनर व हुंडई अल्काजार सहित नौ एसयूवी जब्त की हैं।

अधिकारी ने बताया कि मामले की जांच जारी है।

दिल्ली की अदालत ने दो बच्चियों से दुष्कर्म के मामले में नाबालिग को दोषी ठहराया

दिल्ली की एक अदालत ने वर्ष 2017 में दो बच्चियों के साथ दुष्कर्म के लिए एक नाबालिग को दोषी ठहराया है।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अमित सहरावत नाबालिग आरोपी के खिलाफ मामले की सुनवाई कर रहे थे।

नाबालिग आरोपी पर सात और करीब चार वर्ष की बच्चियों से दुष्कर्म करने के लिए यौन अपराधों से बच्चों के संरक्षण (पॉक्सो) और भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) के प्रावधानों के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था।

अदालत ने मंगलवार को पारित एक आदेश में कहा, ”निर्णायक रूप से ऐसा कहा जा सकता है कि अभियोजन पक्ष बिना किसी संदेह के आरोपों को साबित करने में सफल रहा कि आरोपी ने दोनों पीड़ित बच्चियों से दुष्कर्म के अपराध को अंजाम दिया था।”

राज्य की ओर से विशेष लोक अभियोजक विजय दहिया उपस्थित हुए।

अदालत ने कहा कि जांच अधिकारी (आईओ) ने तय समय के भीतर पीड़ित बच्चियों के बयान दर्ज नहीं किये और न ही उनमें से एक के फटे हुए कपड़े जब्त किये लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि अपराध नहीं हुआ।

अदालत के मुताबिक, ”आईओ की तरफ से हुई लापरवाही के कारण अन्य सबूतों को व्यर्थ नहीं करार दिया जा सकता।”

अदालत ने कहा कि ऐसा कुछ भी नहीं है, जिससे यह पता चले कि पीड़ित बच्चियों को आरोपों के बारे में कुछ सिखाया गया हो। अदालत ने कहा कि बच्चियों की चिकित्सा जांच से उनके बयानों की पुष्टि होती है। अदालत के मुताबिक, जिस दिन अपराध हुआ उसी दिन बच्चियों की चिकित्सा जांच कराई गयी थी।

अदालत ने कहा, ”दोनों बच्चियों की चिकित्सीय जांच केवल एक ही बात की ओर इशारा करती हैं कि दोनों के साथ जबरन दुष्कर्म किया गया था।”

अदालत के मुताबिक, बच्चियों में से एक ने अदालत में आरोपी की पहचान नहीं की लेकिन उसकी गवाही से नदारद इस संदर्भ को फॉरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला (एफएसएल) की रिपोर्ट ने पूरा कर दिया।

फॉरेंसिक जांच के अनुसार, बच्ची का खून आरोपी के पायजामा पर पाया गया था।

दिल्ली के त्रिलोकपुरी में चाकू गोद कर एक व्यक्ति की हत्या

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के त्रिलोकपुरी इलाके में शनिवार को 20 वर्षीय एक व्यक्ति की कथित रूप से चाकू गोद कर हत्या कर दी गई। पुलिस ने इसकी जानकारी दी।

पुलिस ने बताया कि पीसीआर पर एक कॉल प्राप्त हुई और फोनकर्ता ने बताया कि उसके भाई को बाबू नामक व्यक्ति ने चाकू मार दिया है।

दिल्ली: साइबर ठगों ने बुजुर्ग को उसके रिश्तेदार के अपहरण का डर दिखाकर ठगा

साइबर अपराधियों के एक गिरोह ने दिल्ली के 62 वर्षीय एक व्यक्ति से उसके एक रिश्तेदार के अपहरण का डर दिखाकर 50,000 रुपये कथित तौर पर ठग लिए। पुलिस ने मंगलवार को यह जानकारी दी।

आरोपियों ने लक्ष्मी चंद चावला से कहा कि उन्होंने उसके एक रिश्तेदार का अपहरण कर लिया गया है और अगर उसने पैसे नहीं दिए तो वे उसे नुकसान पहुंचाएंगे।

पुलिस उपायुक्त (पूर्वोत्तर) जॉय टिर्की ने कहा, ‘‘हमें उत्तर पूर्वी दिल्ली के यमुना विहार निवासी लक्ष्मी चंद चावला से 24 अक्टूबर को शिकायत मिली थी। उन्होंने पुलिस को बताया कि उन्हें अपने व्हाट्सएप पर एक कॉल आया था। आरोपी ने उन्हें यह डर दिखाया कि उनके रिश्ते के भाई के 25 वर्षीय बेटे का अपहरण कर लिया गया है और अगर उन्हें पैसे नहीं दिए गए तो वे उसे नुकसान पहुंचाएंगे।’’

पुलिस ने आगे कहा कि कॉल के दौरान शिकायतकर्ता को पीछे से एक आदमी के रोने की आवाज सुनाई दे रही थी।

पुलिस ने कहा कि आरोपी ने उसे एक अलग नंबर दिया जिस पर भुगतान करने को कहा गया।

पुलिस उपायुक्त ने दर्ज शिकायत के हवाले से बताया कि पीड़ित डर गया और उसने 50,000 रुपये आरोपियों को भेज दिए।

पुलिस ने कहा कि बाद में उन्होंने अपने रिश्ते के भाई से बात की तो उन्हें पता चला कि उनका बेटा अपने घर पर सुरक्षित है।

पुलिस उपायुक्त ने कहा, ‘‘हमने प्राथमिकी दर्ज कर मामले में आगे की जांच शुरू कर दी है।’’

दिल्ली के जैतपुर में प्रेम प्रसंग के चलते महिला की गोली मारकर हत्या

दक्षिणपूर्वी दिल्ली के जैतपुर इलाके में एक व्यक्ति ने 24 वर्षीय एक महिला की उसके घर पर मां और भाई के सामने कथित तौर पर गोली मारकर हत्या कर दी। पुलिस ने शनिवार को यह जानकारी दी। पुलिस ने बताया कि हमलावर ने पूजा यादव को चार गोली मारी जिससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई।

उन्होंने बताया कि हमलावर की पहचान हरियाणा के फरीदाबाद के रहनेवाले रॉकी के रूप में हुई है जिसे गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस के अनुसार, रॉकी को प्रॉपर्टी डीलर का काम करने वाले अपने बड़े भाई कृष्ण प्रधान के यादव के साथ ‘‘अवैध’’ संबंध से आपत्ति थी और उसने यादव की हत्या करने का फैसला किया।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा,’रॉकी ने बताया कि उसका बड़ा भाई शादीशुदा है और उसके चार बच्चे हैं। यादव के साथ संबंध के चलते उसकी भाभी और मां अकसर प्रधान के साथ झगड़ा करती। इसके चलते उसने यादव को मार दिया।

यादव फरीदाबाद के बसंतपुर गांव में प्रधान के कार्यालय पर काम करती थी और जैतपुर एक्सटेंशन की एकता विहार में अपने माता-पिता और छोटे भाई के साथ रहती थी। यादव ने ब्यूटी पार्लर का कोर्स किया था और सात महीने पहले प्रधान के परिवार के सदस्यों द्वारा उसके रिश्ते पर आपत्ति जताने के कारण उसने कार्यालय में नौकरी छोड़ दी थी।

यादव के भाई मनोज ने कहा,’ उसकी बहन घर के बाहर बच्चों के साथ खेल रही थी और इसी दौरान हमलावर मोटरसाइकिल पर आया। मैं और मां घर के अंदर थे। जैसे ही पूजा घर में घुसी तो हमलावर ने उसपर गोली चला दी। यादव के 22 वर्षीय भाई ने हमलावर का पीछा भी किया लेकिन उसने उसपर भी बंदूक तानकर जान से मारने की धमकी दी। इसके बाद हमलावर बिना नंबर प्लेट की मोटरसाइकिल को छोड़कर पैदल भाग गया।

पुलिस को इंजन नंबर की मदद से पता चला कि इसका मालिक नरेंदर है और उसने शुक्रवार को रॉकी को मोटरसाइकिल दी थी। पुलिस ने फरीदाबाद में रॉकी के घर छापा मारा लेकिन वह नहीं मिला। इसके बाद उसकी लोकेशन का पता लगाकर उसी इलाके से आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया। यादव अविवाहित थी। उसके पिता एक निजी कंपनी में चालक की नौकरी करते हैं और छोटा भाई नोएडा की एक निजी कंपनी में काम करता है। पुलिस जांच कर रही है कि प्रधान के परिवार को कोई अन्य सदस्य तो यादव की हत्या में शामिल नहीं है।

Delhi के Shastri Park Metro स्टेशन के पार्किंग क्षेत्र में महिला का क्षत-विक्षत शव मिला

उत्तरपूर्वी दिल्ली में शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन के पार्किंग क्षेत्र से एक महिला का क्षत-विक्षत शव मिला है। पुलिस ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि करीब 30 वर्ष की आयु की महिला का पार्किंग क्षेत्र से मिला शव तीन-चार दिन पुराना है। उन्होंने कहा कि शव बुरी तरह क्षत-विक्षत था। पुलिस ने बताया कि एक राहगीर ने पार्किंग क्षेत्र में शव देखा। यह पार्किंग क्षेत्र एक जंगली इलाके से सटा हुआ है।

पुलिस के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘सीसीटीवी कैमरों और आसपास रह रहे लोगों की मदद से पुलिस यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि क्या किसी ने शव पार्किंग क्षेत्र में फेंका या यह प्राकृतिक मौत का मामला है।’’

शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

दिल्ली में नकाबपोश बदमाशों ने आभूषण की दुकान में लूटपाट की

दिल्ली के रोहिणी इलाके में चार नकाबपोश बदमाशों ने आभूषण की एक दुकान में कथित रूप से लूटपाट की है। पुलिस ने रविवार को यह जानकारी दी।

पुलिस के मुताबिक, पीतमपुरा के रहने वाले 48 वर्षीय दुकान के मालिक ने विजय नगर थाने में दर्ज कराई अपनी शिकायत में बताया कि वह शुक्रवार को हुई बिक्री का हिसाब लगा रहे थे कि तभी शाम करीब सात बजे हेलमेट और मास्क लगाया हुआ एक व्यक्ति दुकान में आया। उन्होंने बताया कि उसके बाद तीन अन्य नकाबपोश व्यक्ति भी दुकान में घुस आए।

पुलिस के मुताबिक, पीड़ित ने दावा किया कि घबराकर उन्होंने खुद को दुकान के लॉकर कक्ष में बंद कर लिया।

उन्होंने पुलिस को बताया कि कुछ देर बाद दुकान पर काम करने वाले बजरंग ने दरवाजा खटखटाया और पीड़ित को जानकारी दी कि आरोपी सोना-चांदी, 75 हजार रुपये व अन्य मूल्यवान चीजें ले गए हैं।

पुलिस ने भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

पुलिस के मुताबिक, वे आस-पास लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज को खंगाल रहे हैं। हालांकि अभी तक मामले में कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है।