अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के पश्चिमी क्षेत्र में सोमवार सुबह करीब सात बजे एक कार बम हमले में कम से कम 35 लोग मारे गये और 40 अन्य घायल हो गये. हमले की जिम्मेदारी तालिबान ने ली है. पश्चिमी काबुल में आज सरकारी कर्मचारियों को लेकर जा रही बस को एक कार बम से निशाना बनाया गया. इस हमले की जानकारी गृह मंत्रालय के प्रवक्ता नजीब दानिश ने दी. दानिश ने कहा, सुबह भीड़-भाड़ के वक्त खनन मंत्रालय के कर्मचारियों को लेकर जा रही बस को कार बम से निशाना बनाया गया. हमले की जिम्मेदारी तालिबान ने ली है. गौरतलब है

काबुल में भारतीय दूतावास के पास धमाका हुआ है, जिसमें 50 लोगों की मौत और 60 घायल हुए हैं.सभी भारतीय कर्मचारी सुरक्षित हैं.  धमाके के बाद आसपास धुएं का गुबार दिखाई दिया, जिससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि धमाका कितना बड़ा था. भारतीय दूतावास की इमारत के दरवाजों और खिड़कियों को नुकसान पहुंचा है. भारत की विदेशमंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट के माध्यम से जानकारी दी है कि काबुल में भारतीय दूतावास में सभी कर्मचारी सुरक्षित हैं. https://twitter.com/SushmaSwaraj/status/869775310706716672 अभी तक यह साफ नहीं है धमाके के निशाने पर कौन था. सूत्रों के मुताबिक- भारतीय दूतावास इसका निशाना नहीं था. जिस इलाके में

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में बुधवार को अमेरिकी एम्बेसी के पास फिदायीन हमला हुआ। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक एक सुसाइड बॉम्बर ने NATO के काफिले को टारगेट किया। इसमें 4 लोगों की मौत हो गई और 22 अन्य जख्मी हो गए।