कौन थे एशिया के सबसे बड़े फिल्म स्टूडियो बनाने वाले रामोजी राव? जहां हर साल होती ही 300 फिल्मों की शूटिंग

कौन थे एशिया के सबसे बड़े फिल्म स्टूडियो बनाने वाले रामोजी राव? जहां हर साल होती ही 300 फिल्मों की शूटिंग

हैदराबाद का रामोजी राव फिल्म स्टूडियो सिर्फ देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया का सबसे बड़ा इंटीग्रेटेड फिल्म प्रोडक्शन प्लेस है। क्या आप जानते हैं कि इसके फाउंडर रामोजी राव ने कैसे इस स्टूडियो को खड़ा किया और कैसे वह भारत के सबसे बड़े मीडिया मुगल बन गए?

रामोजी फिल्मी सिटी के थे मालिक

‘रामोजी राव कोई ऐसा वैसा नाम नहीं थे। जी हां, रामोजी राव दुनिया के सबसे बड़े फिल्म स्टूडियो परिसर यानी रामोजी फिल्म सिटी के मालिक थे। बाहुबली’ से लेकर ‘चेन्नई एक्सप्रेस’ जैसी फिल्मों की शूटिंग यहीं पर हुई है। हर साल यहां 300 फिल्म तक की शूटिंग होती है। बीते 8 जून को सिनेमा जगत में तब शोक की लहर छा गई, जब फिल्म मुगल रामोजी राव के निधन की खबर आई।

साल 1996 में की थी फिल्म सिटी की स्थापना

साल 1996 में रामोजी राव ने हैदराबाद के पास रामोजी फिल्म सिटी की स्थापना की, जो आज 2,000 एकड़ से अधिक क्षेत्र में फैला हुआ है। दुनिया का सबसे बड़ा फिल्म स्टूडियो कॉम्प्लेक्स होने का गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड भी इसके नाम दर्ज है। रामोजी फिल्म सिटी में कई विशाल फिल्म सेट, साउंड स्टेज और अन्य मनोरंजन विकल्प शामिल हैं। पिछले कुछ सालों में, यह एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल के साथ-साथ फिल्म निर्माण का केंद्र भी बन गया है।

काफी बड़ा था बिजनेस

रामोजी राव का बिजनेस सिर्फ मीडिया तक सीमित नहीं रहा, बल्कि उन्होंने ऊषोदय एंटरप्राइजेज के तहत प्रिया आचार और सोमा फ्रूट ड्रिंक जैसे बिजनेस भी खड़े किए। प्रिया आचार भी इनाडु की तरह आंध्र प्रदेश के हर घर का हिस्सा बन गया। वहीं सोमा फ्रूट ड्रिंक, भारत का पहला ऐसा पेय बना जो छोटे पैकेट में बिकने लगा।