अंग दान की अनोखी मिसाल, बूढ़े पिता ने किडनी देकर बचाई बेटे की जान

एक बुजुर्ग पिता ने अपने बेटे को किडनी डोनेट कर जीवन दान दिया और सफल सर्जरी के बाद अब दोनों स्वस्थ जीवन जी रहे हैं। नॉर्थ वेस्ट दिल्ली के केशवपुरम इलाके में रहने वाले शिवेंद्र अमिताभ पेशे से पत्रकार हैं।

बीते एक साल से शिवेंद्र किडनी की बीमारी से ग्रस्त थे और इलाज के दौरान डॉक्टर ने उन्हें बताया कि उनकी दोनों किडनी फेल हो चुकी है और अब जान बचाने का एक मात्र रास्ता ट्रांस्प्लांट है।

कई महीनों तक शिवेंद्र दवाइयों और डायलिसिस पर निर्भर रहे लेकिन हालत में सुधार नहीं हुआ। डोनर न मिल पाने के कारण उनके जान पर संकट गहराता जा रहा था।

ऐसी गंभीर परिस्थिति में उनका परिवार उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर से दिल्ली पहुँचा और पिता ने अपनी किडनी देने की बात कही। अपने बुजुर्ग पिता की किडनी दान कराने को ले कर शिवेंद्र चिंतित थे। लेकिन उनके पिता ध्रुव कुमार पांडेय जो पेशे से वकील हैं उन्होंने अपने बेटे को भरोसा दिलाया कि वो पूरी तरह स्वस्थ हैं और आगे का जीवन एक किडनी के सहारे भी जी सकते हैं।

दिल्ली के इंद्रप्रस्त अपोलो अस्पताल में डॉ संदीप गुलेरिया की देख रेख में मरीज़ और उनके डोनर पिता के तमाम टेस्ट हुए जिसमें किडनी ट्रांस्प्लांट के लिये सभी स्थितियाँ उपयुक्त पाई गई। इसके बाद मार्च महीने में ट्रांस्प्लांट सर्जरी की गई। आज दो महीने बाद पिता और पुत्र दोनों स्वस्थ हैं और ये किडनी ट्रांस्प्लांट सफल रहा।
ध्रुव कुमार पांडेय की हिम्मत और शिवेंद्र अमिताभ की इच्छाशक्ति के कारण आज पूरा परिवार खुश है और युवा पत्रकार शिवेंद्र अब एक बार फिर पूर्णतः स्वस्थ होने के बाद फील्ड रिपोर्टिंग के साथ एक नये जीवन की शुरुआत करने के लिये तैयार हैं।