‘प्राण प्रतिष्ठा’ समारोह में शास्त्रीय भारतीय वाद्ययंत्रों से गूंज उठेगा राम मंदिर परिसर

‘प्राण प्रतिष्ठा’ समारोह में शास्त्रीय भारतीय वाद्ययंत्रों से गूंज उठेगा राम मंदिर परिसर

अयोध्या में राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा समारोह वाले दिन पूरा परिसर संगीतमय रहेगा। इस मौके पर उत्तर प्रदेश की बांसुरी तथा ढोलक से लेकर तमिलनाडु के मृदंग जैसे देशभर के विभिन्न शास्त्रीय वाद्ययंत्र बजाये जाएंगे।

‘श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र’ के महासचिव चंपत राय ने बताया कि 22 जनवरी को भव्य समारोह के दौरान प्रस्तुति के लिए भारत के विभिन्न हिस्सों से संगीतकारों का चयन किया गया है।

लोगों द्वारा ‘‘अधूरे मंदिर’’ में समारोह आयोजित को लेकर उठाये जा रहे सवालों पर राय ने सोमवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा की मैं किसी भी आलोचना का जवाब नहीं दूंगा।

उन्होंने कहा कि मंदिर में रामलला की मूर्ति की ‘प्राण प्रतिष्ठा’ का कार्यक्रम दोपहर 12 बजकर 20 मिनट पर शुरू होगा और दोपहर 1 बजे तक इसके पूरा होने की उम्मीद है।

राय ने बताया कि यह समारोह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत, उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और मंदिर न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास की गरिमामय उपस्थिति में होगा।

उन्होंने बताया कि यहां करीब 8 हजार लोगों के बैठने की व्यवस्था की गई है। न्यास के महासचिव ने बताया कि चयनित संगीतकार अपने-अपने क्षेत्रों के भारतीय परंपरा से जुड़े विभिन्न प्रकार के ‘‘वाद्य यंत्र’’ (संगीत वाद्ययंत्र) बजाएंगे।

उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश से बांसुरी और ढोलक, कर्नाटक से वीणा, महाराष्ट्र से सुंदरी, पंजाब से अलगोजा, ओडिशा से मर्दला, मध्य प्रदेश से संतूर, मणिपुर से पुंग, असम से नगाड़ा और काली, छत्तीसगढ़ से तंबूरा, बिहार से पखावज, दिल्ली से शहनाई और राजस्थान से रावणहत्था बजाने वाले कलाकर शामिल होंगे।

पश्चिम बंगाल के श्रीखोल और सरोद, आंध्र प्रदेश से घटम, झारखंड से सितार, तमिलनाडु से नादस्वरम और मृदंग, और उत्तराखंड से हुड़का कलाकर भी कार्यक्रम में भाग लेंगे।

राय ने बताया कि जब अनुष्ठानिक मंत्रोच्चार या कोई संबोधन नहीं हो रहा होगा तब ये कलाकर वाद्ययंत्र बजाएंगे।

उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि राम मंदिर के लिए परियोजना प्रबंधन सलाहकार के रूप में काम करने वाली कंपनी ‘एलएंडटी’ और ‘टाटा कंसल्टिंग इंजीनियर’ के प्रतिनिधि भी समारोह में शामिल होंगे।

राय ने बताया कि मेहमानों के लिए जलपान तथा दोपहर के भोजन की व्यवस्था की जाएगी और पेयजल, शौचालय तथा जूता रखने की जगह सहित अन्य की व्यवस्था की गई है।

मंदिर न्यास की ओर से ‘प्राण प्रतिष्ठा’ समारोह के लिए सात हजार से अधिक लोगों को आमंत्रित किया गया है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि आमंत्रित लोगों में क्रिकेट के दिग्गज खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर, एमएस धोनी और विराट कोहली, बॉलीवुड सुपरस्टार अमिताभ बच्चन और अरबपति उद्योगपति मुकेश अंबानी और गौतम अडाणी शामिल हैं।

राय ने बताया कि 26 जनवरी से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के कार्यकर्ता जत्थों में मंदिर की यात्रा शुरू करेंगे, जो कि फरवरी के अंत तक जारी रहेगी।

उन्होंने बताया कि इस अवसर के लिए पिछले कई दिनों में नेपाल के जनकपुर और बिहार के सीतामढ़ी सहित भारत के विभिन्न हिस्सों से उपहार आए हैं।

राय ने बताया कि आमंत्रित लोगों के लिए कारसेवकपुरम, तीर्थ क्षेत्र पुरम में ठहरने की व्यवस्था की जा रही है और कई होटल और धर्मशालाओं में कमरे भी बुक किए गए हैं।

महासचिव ने बताया कि अमेरिका, अफ्रीका, खाड़ी क्षेत्र और हांगकांग समेत 50 देशों से कुल 53 मेहमान समारोह में शामिल होंगे।