फसल को आग लगने से बचाने के लिए पीएसपीसीएल ने नियंत्रण कक्ष किया स्थापित

फसल को आग लगने से बचाने के लिए पीएसपीसीएल ने नियंत्रण कक्ष किया स्थापित

पंजाब स्टेट पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने फसल को आग लगने से बचाने के लिए एक नियंत्रण कक्ष स्थापित किया है। इसके साथ ही पीएसपीसीएल ने किसानों से कुछ सावधानियां बरतने की भी अपील की है ताकि किसी भी अवांछित घटना से बचा जा सके।

पीएसपीसीएल के एक बुलेटिन के अनुसार, विभाग ने राज्य के भीतर खेतों से निकलने वाली बिजली लाइनों की निगरानी बढ़ा दी है। इस लाइन के नीचे जहां से ये लाइनें निकलती हैं, वहां के एसडीओ व अन्य अधिकारियों को विशेष निर्देश दिए गए हैं।

इसके अलावा फायर स्टेशनों से भी संपर्क किया गया है ताकि वे अलर्ट रहें। इस दौरान ढीले तार/केबल और सब-स्टेशन या जी.ओ. स्विच जो स्पार्किंग का कारण बन सकते हैं।

उनकी सूचना तुरंत नियंत्रण कक्ष नंबर 96461-06835, 96461-06836, या 1912 के साथ उप-मंडल कार्यालय/शिकायत केंद्र को दी जानी चाहिए।

ताकि फसल को आग लगने से बचाने के लिए इन विद्युत लाइनों/तारों की समय पर मरम्मत की जा सकती है। इसके अलावा ढीले तारों या स्पार्किंग की तस्वीरें लोकेशन सहित व्हाट्सएप नंबर 96461-06835/36 पर भी भेज सकते हैं।

इसके अलावा विभाग ने किसानों को सावधानी बरतने की भी सलाह दी है। इस दौरान काटी गई फसल के अवशेषों को बिजली के तारों या ट्रांसफार्मर और जी.ओ. स्विच के नीचे नहीं रखना चाहिए।

कृषि भूमि पर डुअल-सिंगल फेज ट्रांसफार्मर के चारों ओर एक मीटर का दायरा खाली रखा जाना चाहिए ताकि शॉर्ट सर्किट की स्थिति में आग लगने से बचाया जा सके।

फसल के पास पराली/सिगरेट का प्रयोग नहीं करना चाहिए। विद्युत लाइनों को बांस या बल्लियों से नहीं छूना चाहिए। अनाधिकृत व्यक्तियों को जी.ओ. स्विच के साथ छेड़छाड़ करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए।