बुमराह ने आलोचकों को दिया करार जवाब, कहा साल भर पहले तक करियर खत्म होने के बारे में पूछते थे……

बुमराह ने आलोचकों को दिया करार जवाब, कहा साल भर पहले तक करियर खत्म होने के बारे में पूछते थे……

भारतीय क्रिकेट के सर्वश्रेष्ठ तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने पाकिस्तान के खिलाफ शानदार प्रदर्शन के बाद कहा कि उन्हें इस बात पर बड़ी हसीं आती है कि एक साल पहले तक लोग उनके करियर के खत्म होने की बातें कर रहे थे और अब उन्हें सर्वश्रेष्ठ बताते हैं।

बुमराह ने 2022 में पीठ के निचले हिस्से में ‘स्ट्रेस फ्रेक्चर’ के लिए सर्जरी कराई थी, जिसके कारण वह आस्ट्रेलिया में टी20 विश्व कप 2022 में नहीं खेल पाए थे।

टी20 विश्व कप 2022 से पहले घरेलू सीरीज में उनकी पीठ में खिंचाव आ गया था, जिसके बाद वें 10 से ज्यादा महीनों के लिए क्रिकेट से बाहर हो गए थे। लोग उनके तीनों फोर्मट्स में खेलने पर सवाल उठाने लगे।

लेकिन बुमराह ने पिछले एक साल में तीनों प्रारूपों में मिलाकर 67 विकेट झटककर आलोचकों का मुंह बंद कर दिया। बुमराह ने बीती रात पाकिस्तान के खिलाफ टी20 विश्व कप मुकाबले में भी शानदार गेंदबाजी की।

बुमराह ने इस मैच में शानदार गेंदबाजी की और अपने 4 ओवर में महज 14 रन देकर 3 विकेट चटकाए। बुमराह के इस शानदार प्रदर्शन की बदौलत भारत ने इस मैच को 6 रन से जीत लिया।

बुमराह ने अपने आलोचकों पर निशाना साधते हुए कहा कि एक साल पहले तक ये ही लोग कह रहे थे कि मैं शायद फिर दोबारा नहीं खेल पाऊंगा और मेरा करियर खत्म हो गया है। लेकिन अब यह सवाल बदल गया है।

भारत ने महज 119 रन पर सिमटने के बाद बुमराह के शानदार प्रदर्शन के दम पर पाकिस्तान को 7 विकेट पर 113 रन के स्कोर पर रोक दिया।

बुमराह ने कहा कि वें आलोचकों की ‘अदलू बदलू’ प्रकृति को बखूबी समझते हैं और जानते हैं कि उनके लिए सर्वश्रेष्ठ यही है कि वह खुद के नियंत्रण वाली चीजों पर काम करें।

उन्होंने कहा कि मैं मैच में इस चीज पर ध्यान नहीं देता कि मैं अपनी सर्वश्रेष्ठ क्षमता से गेंदबाजी कर रहा हूं या नहीं, बल्कि मैं मैच में मौजूद समस्या का निदान करने की कोशिश करता हूं।

मैं जानता हूं कि यह घिसा पिटा जवाब है। लेकिन मैं इसी पर फोकस करने की कोशिश कर रहा था कि इस तरह के विकेट पर यहां सर्वश्रेष्ठ विकल्प क्या है।

बुमराह ने कहा कि मैं वर्तमान में रहने की कोशिश करता हूं कि और मुझे क्या करना है, इस पर फोकस करता हूं। मैं अपने बस के बाहर की चीजों पर ज्यादा ध्यान नहीं देता हूँ।

इस तरह के भावनाओं से भरे बड़े मुकाबले में बाहर का शोर दबाव बना सकता है, लेकिन बुमराह इन सब की अनदेखी कर इससे निपटने में सफल रहते हैं।

उन्होंने कहा कि अगर मैं बाहर का शोर देखूंगा, लोगों को देखूंगा तो दबाव और भावनाएं हावी हो जाएंगी। फिर मेरे लिए चीजें काम नहीं करेंगी।