निकाय चुनाव में अपने ही गढ़ में नहीं बच पाई दिग्गजों की साख, जानिए कौन सी पार्टी कहां से हारी…

nikay chunav

हरियाणा निकाय चुनाव में कई दिग्गज भी अपना गढ़ नहीं बचा पाए। प्रदेश के कुल 43 विधायकों के विधानसभा क्षेत्र की नगर परिषद व नगर पालिकाओं के चुनाव थे, परंतु करीब 25 विधायकों के गढ़ टूट गए और बड़ा उलटफेर हो गया। ऐसे में कांग्रेस के अलावा बीजेपी-जजपा और इनेलो भी अपनी साख अपने चुनाव क्षेत्रों में नहीं बचा पाई।

कांग्रेस के गढ़ में दूसरे जीते…

हरियाणा कांग्रेस के 31 विधायक हैं। कांग्रेस के 15 विधायकों के क्षेत्रों में नगर निकाय चुनाव थे, परंतु 2 ही विधायक अपना गढ़ बचाने में कामयाब रहे। बाकी 13 विधायकों के गढ़ में भाजपा और निर्दलीय उम्मीदवार जीत गए। भाजपा के 6 विधायकों के गढ़ में निर्दलीय और कांग्रेस समर्थित उम्मीदवार जीत गए। जजपा के 4 विधायकों के गढ़ में निर्दलीय चुनाव जीत गए। इसी प्रकार महम में निर्दलीय विधायक बलराज कुंडू के क्षेत्र में भाजपा- जजपा समर्थित उम्मीदवार जीत गया। कैथल राज्यसभा सांसद रणदीप सुरजेवाला का गृह जिला है, वहां पर भाजपा उम्मीदवार जीत गया।

ऐलनाबाद में हारा इनेलो उम्मीदवार…

ऐलनाबाद उप चुनाव में अभय चौटाला ने दोबारा जीत हासिल की। नगर पालिका चुनाव में कांग्रेस और भाजपा उम्मीदवार के बीच मुकाबला रहा और कांग्रेसी उम्मीदवार ने जीत दर्ज की, परंतु इनेलो उम्मीदवार तीसरे स्थान पर रहा।

BJP-JJP की भी…

वहीं, सबसे बड़ा उलटफेर करनाल में हुआ, जहां पर 4 नगर पालिकाओं में से केवल एक पर ही भाजपा जीत पाई। 2 पर निर्दलीय और एक पर कांग्रेस ने जीत दर्ज की।

उधर, डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला के गढ़ उचाना में पार्टी उम्मीदवार तीसरे स्थान पर रहा। जजपा 4 नगर परिषद में से एक नूंह नगर परिषद ही जीत सकी, जबकि दुष्यंत चौटाला अपने गृह जिले की 3 निकायों में एक पर भी गठबंधन को जीत नहीं दिला सके।

डबवाली नगर परिषद में जजपा उम्मीवार तीसरे स्थान पर रहा। टोहाना नगर परिषद में जजपा उम्मीदवार हार गया। वहीं, नरवाना में जजपा विधायक राम निवास के एरिया में निर्दलीय उम्मीदवार चुनाव जीत गया। जजपा उम्मीदवार 6 वें स्थान पर रहा।