जानें फीट रहने के लिए क्या खातें हैं जया किशोरी, धीरेंद्र शास्त्री, प्रेमानंद महाराज जैसे आध्यात्मिक गुरु

जानें फीट रहने के लिए क्या खातें हैं जया किशोरी, धीरेंद्र शास्त्री, प्रेमानंद महाराज जैसे आध्यात्मिक गुरु

भारत को साधु-संतों की धरती कहा जाए तो गलत नहीं होगा. आज भी बहुत से ऐसे ही महान साधु-संत लोगों को अध्यात्म की ओर लाने का प्रयास कर रहे है. तो वहीं सोशल मीडिया पर ऐसे कई फेमस लोग हैं जो अपने आध्यात्मिक प्रवचन और मोटिवेशन के लिए जाने जाते हैं. उनमे से है जया किशोरी, धीरेंद्र शास्त्री, प्रेमानंद महाराज जी. लेकिन क्या आप जानते है. फेमस आध्यात्मिक गुरु रोज क्या खाते हैं? चलिए आज हम आपको उनकी सेहत और फिटनेस का राज बताते हैं.

जया किशोरी करती हैं बाजरे की रोटी

कथावाचक और मोटिवेशनल स्पीकर जया किशोरी जी का नाम कौन नहीं जानता है. लेकिन लोग जानना चाहते हैं कि आखिर वे ऐसा क्या खाती है या उनका क्या डाइट प्लान जो इतना फिट रहती हैं? आपको बता दें कि जया किशोरी जंक फूड नहीं खाती हैं. वह हमेशा क्लीन डाइट लेती हैं. क्लीन डाइट में होल ग्रोन, हरी सब्जियां, फल, ड्राई फूड, अनप्रोसेस्ड फूड आते हैं. खाने में जया किशोरी गेहूं की रोटी से ज्यादा बाजरे की रोटी पसंद है. इसके साथ ही वह मक्खन और गुड़ केसर खाना पसंद करती हैं.

धीरेंद्र शास्त्री की ये डाइट

पंडित धीरेंद्र शास्त्री बेहद चर्चित हो चुके हैं. धीरेंद्र शास्त्री न सिर्फ भारत बल्कि विदेशों में भी कथा करने जाते हैं. पंडित धीरेंद्र शास्त्री कई मीडिया इंटरव्यू मे बता चुके हैं कि उन्हें सादा खाना ही पसंद है. धीरेंद्र शास्त्री ने बताया कि वह दिन में एक ही बार रोटी या चावल खाते हैं. दिन के समय फलाहार खाते हैं और रात के समय ही वह रोटी या चावल खाते हैं. पंडित धीरेंद्र शास्त्री चाय के बेहद शौकीन हैं. इसके अलावा पंडित धीरेंद्र शास्त्री कई बार समोसा भी खा लेते हैं.

प्रेमानंद महाराज नहीं खाते ज्यादा खाना

संत श्री हित प्रेमानंद गोविंद शरण महाराज आजकल बहुत फेमस हो रहे हैं और लगातार उनके फॉलोअर बढ़ते जा रहे हैं. प्रेमानंद जी महाराज ने अपने सत्संग में बताया, कि आप लोग यकीन नहीं मानोगे कि मेरी दोनों किडनी खराब है कम से कम 19 वर्षों से डायलिसिस के कारण हम दूध पीने की तो बहुत दूर की बात है पानी भी बहुत कम मात्रा में पी पाता हूं, डायलिसिस के कारण शरीर में ज्यादा ताकत भी नहीं रही है इसलिए महाराज जी को आधी रोटी पर उसी के अनुसार थोड़ी सी सब्जी दी जाती है खाने के लिए.