मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी रविवार को बीआरडी मेडिकल कॉलेज का दौरा करने के बाद आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में भावुक हो गये. उनकी आंखें नम हो गयीं. उन्होंने कहा कि इंसेफ्लाइटिस से मौतों की पीड़ा को मुझसे ज्यादा कौन समझेगा. जांच समिति की रिपोर्ट आने दें. उन्होंने आश्वासन दिया कि उत्तर प्रदेश के किसी भी हिस्से में किसी व्यक्ति की मौत अगर लापरवाही के कारण होती है, तो उसे बख्शा नहीं जाएगा. मुख्यमंत्री ने यूपीए सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि जब गुलाम नबी आजाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री थे, तब वह यहां आये थे. उस समय उन्होंने कहा था कि हम इस

उत्तर प्रदेश में गरीब लड़कियों की शादी राज्य सरकार कराएगी. इसके लिए राज्य सरकार के खर्चे पर सामूहिक विवाह कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा. इस तरह के आयोजनों में सांसद और विधायक के अलावा समाज के प्रतिष्ठित लोगों को भी बुलाया जाएगा. खास बात यह है कि अब तक इस योजना के तहत दी जाने वाली राशि बीस हजार रुपये में कोई छेड़छाड़ नहीं की जाएगी और उसे कन्या के खाते में जमा कर दिया जाएगा. इसके साथ ही एक स्मार्ट फोन का उपहार भी उसे मिलेगा. समाज कल्याण विभाग ने इसका प्रस्ताव तैयार कर शासन को भेज दिया है. मीडिया

शहीद प्रेम सागर पिछले दिनों पुंछ में पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम (बीएटी) के हमले में शहीद हो गए थे। 11 दिन बाद योगी आदित्यनाथ प्रेमसागर के परिजन से मिलने देवरिया के टिकमपार गांव पहुंचे। योगी के दौरे के 24 घंटे पहले एडमिनिस्ट्रेशन ने शहीद के घर को हाइटेक बना दिया। जिस कमरे में सीएम परिजन से मिलने वाले थे, उसमें एसी लगाया गया। सोफे और कालीन बिछाए गए। शहीद के बेटे ईश्वर चंद्र ने बताया कि सीएम योगी के जाने के आधे घंटे के बाद ही सब कुछ हटा लिया गया।

लखनऊ नेशनल इंवेस्टिगेशन एजेंसी (एनआइए) तथा उत्तर प्रदेश एंटी टेरेरिजम स्क्वाड (एटीएस) की सक्रियता के कारण आतंकवादी भी उत्तर प्रदेश में वारदात करने को चोला बदल रहे हैं. अब उत्तर प्रदेश में आतंकवादी भगवा भेष में हमला कर सकते हैं. आतंकी साजिश को लेकर प्रदेश में हाईअलर्ट, श्रीकृष्ण जन्मभूमि और रिफायनरी की सुरक्षा बढ़ाई गई है. खुफिया सूचना मिलने के बाद प्रदेश में पुलिस को अलर्ट जारी किया गया है. उत्तर प्रदेश में पुलिस के साथ आतंकविरोधी एजेंसियां भी अलर्ट हैं जो तमाम सूचनाएं जुटाने में जुटी हैं. आज पद ग्रहण करने के बाद इस मामले में डीजीपी सुलखान सिंह ने बताया कि

लखनऊ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ऐलान किया है कि वो पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव द्वारा शुरू किये गए यश भारती सम्मान की जांच कराएंगे. यश भारती सम्मान की शुरुआत मुलायम सिंह यादव की सरकार ने लगभग दो दशक पहले की थी. ये सम्मान सदी के महानायक अमिताभ बच्चन, नसीरुद्दीन शाह, नवाजुद्दीन सिद्दीकी समेत तमाम बड़ी हस्तियों को दिया जा चुका है. साल 1994 में सपा सरकार ने प्रदेश का नाम रोशन करने वाले कलाकारों को सम्मानित करने के लिए इस पुरस्कार की शुरुआत की थी. अखिलेश यादव के मुख्यमंत्री बनने के बाद उन पर इस तरह के आरोप लगते

झांसी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने झांसी में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा कि प्रचंड जीत के बाद सरकार की जिम्मेदारी बढ़ गई है. उन्होंने कहा कि अगले 2 सालों में बुंदेलखंड से पानी की कमी की समस्या को खत्म कर देंगे. उन्होंने बिजली विभाग के अधिकारियों को आदेश दिया कि 48 घंटे के अंदर बुंदेलखंड में खराब पड़े बिजली के टांसफॉर्मर को या तो ठीक किया जाए या फिर उसे बदला जाए. सीएम ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि बुंदेलखंड को दिल्ली के साथ 6 लेन एक्सप्रेस-वे से जोड़ा जाएगा. उन्होंने कहा कि सूबे में अब कोई

बिजली निगम के मीटर स्लो पर जुर्माना ठोकने से खफा एक बिजली उपभोक्ता ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को मेल भेजकर योगी बनने की सलाह दी है। मुख्यमंत्री को नसीहत देने वाली मेल अब चर्चा में है। पीड़ित का आरोप है कि उनके दोनों मीटरों में कोई गड़बड़ नहीं मिली थी। सब अर्बन के कर्मचारियों के मीटर पैकिंग के समय एक मीटर की सील जंग लगी होने के कारण टूट गई थी। इसके बाद भी उन पर जुर्माना लगा दिया गया। उपभोक्ता ने जुर्माना जमा करा दिया है। लेकिन, अब वह इंसाफ के लिए निगम के उच्च अधिकारियों के साथ ही

मैनपुरी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ राज्य में अपराध कम करने की दिशा में लगातार काम कर रहे हैं, लेकिन फिर भी राज्य में अपराध कम होते दिख नहीं रहे हैं. यूपी के मैनपुरी से एक ऐसी वारदात सामने आई है जिसे जानकर आप भी दंग रह जाएंगे. मैनपुरी में जमीन विवाद के आरोपियों ने पुलिस चौकी के अंदर घुसकर मारपीट की और एक महिला को गोली भी मार दी. चौकी के अंदर मारपीट होने के बाद जब महिला बाहर भागी तो वह महज 50 मीटर दूर ही पहुंची होगी कि चौकी के अंदर मौजूद बदमाशों ने उसे गोली मार

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को लखनऊ में पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर की जयंती के मौके पर किताब विमोचन के एक कार्यक्रम में हिस्सा लिया. कार्यक्रम को संबोधित करते हुए योगी ने कई नई बहसों और सवालों को जन्म दे दिया है. योगी ने कहा कि ट्रिपल तलाक महिलाओं के अधिकार पर हमला है लेकिन कुछ लोगों के मुंह क्यों बंद हैं. योगी ने अपने भाषण में ट्रिपल तलाक और कॉमन सिविल कोड पर अपनी बात रखी. योगी आदित्यनाथ ने अपने भाषण के दौरान ये 5 कड़े सवालों को जन्म दिया 1. ट्रिपल तलाक चीरहरण जैसा, कुछ लोग सियासी फायदे

लखनऊ समाजवादी पार्टी नेता अखिलेश यादव ने शनिवार को एक प्रेस कांफ्रेंस में सूबे की योगी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा है कि बीजेपी ने जाति और धर्म के आधार पर लोगों को बांटकर और झूठे वादे कर सत्‍ता हासिल की है. यह सरकार लोगों को धोखा देकर बनी है. उन्‍होंने कहा कि बीजेपी के झूठ के खिलाफ रास्‍ता खोले जाने की जरूरत है. इसके लिए विपक्षी दलों के गठबंधन की जरूरत होगी. इस गठबंधन में सपा की अहम भूमिका होगी. वैसे भी सपा सभी के साथ हैं. उन्‍होंने यह भी कहा कि इसके लिए देश के सभी नेताओं से बात