रूस ने अमेरिका द्वारा लगाए गए ताजा प्रतिबंधों के जवाब में 755 अमेरिकी राजनयिकों को देश छोड़कर जाने का आदेश दिया है। रूस का यह फैसला अमेरिका और उसके रिश्तों का तनाव और बढ़ा देगा। हाल ही में अमेरिकी कांग्रेस के दोनों हाउस ने लगभग एकमत होकर रूस पर ताजा प्रतिबंध लगाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। अमेरिकी राजनयिकों को 'रूस निकाला' देने का ऐलान करते हुए राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन ने कहा कि वॉशिंगटन के 'गैरकानूनी' फैसले के खिलाफ यह मॉस्को की प्रतिक्रिया है। US कांग्रेस ने रूस पर यह प्रतिबंध लगाने के दो कारण गिनाए हैं। पहली वजह तो

हैम्बर्ग में हो रही जी-20 समिट में कल अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की बैठक काफी चर्चाओं में रही. दोनों देशों के शीर्ष नेताओं के बीच तीस मिनट के लिए तय की गई ये बैठक करीब दो घंटे चली. बैठक के समय को बढ़ते देख अमेरिका की फर्स्ट लेडी यानि मेलानिया ट्रंप को इसे खत्म करने के लिए भेजा गया. एक घंटा बीत जाने पर मेलानिया ने बैठक को रोकने की कोशिश की, लेकिन ये मुमकिन नहीं हो सका. अमेरिका के राज्य सचिव रेक्स टिलरसन ने बताया कि ट्रंप और पुतिन के बीच कैमेस्ट्री इतनी अच्छी है कि निर्धारित समय पूरा होने के