हिमाचल कांग्रेस विधायक दल की आज शाम छह बजे सीएम के सरकारी आवास ओक ओवर में होगी। मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की अध्यक्षता में होने वाली बैठक में प्रदेश कांग्रेस के नवनियुक्त प्रभारी सुशील कुमार शिंदे भी मौजूद रहेंगे। आपको बता दें कि कांग्रेस और प्रदेश संगठन में इस वक्त घमासान मचा हुआ है। सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष में आए दिन खींचतान की खबरें आ रही हैं। दोनों एक दूसरे पर जमकर निशाना साध रहे हैं। बैठक में कांग्रेस के सभी विधायक मौजूद रहेंगे। प्रदेश प्रभारी बनने के बाद शिंदे की विधायकों के साथ पहली बैठक होगी।

हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस के छह विधायकों ने मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के खिलाफ हाईकमान को पत्र लिखा है।इस पत्र में सीएम वीरभद्र सिंह को सीएम पद से हटाने की मांग की गई है। इस पत्र की एक कॉपी प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुखविंदर सुक्खू को भी भेजी गई है। सूत्रों के मुताबिक विधायकों का आरोप है कि कोटखाई मामले को निपटाने में वीरभद्र सरकार असफल रही है। कांग्रेस विधायक कोटखाई मामले में सीएम वीरभद्र के गैर जिम्मेदाराना बयान से नाराज हैं।

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की मनी लॉन्ड्रिंग केस को रद्द करने की याचिका पर आज दिल्ली हाईकोर्ट ने अपना फैसला सुनाया। हाईकोर्ट ने वीरभद्र सिंह की याचिका को खारिज कर दिया है। दरअसल, सीएम वीरभद्र ने याचिका लगाकर मांग की थी कि उनपर ED की और से दर्ज FIR को रद्द कर दिया जाए। हाईकोर्ट ने दोनों पक्षों की तरफ से दलीलें सुनने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। मगर सोमवार को कोर्ट ने वीरभद्र सिंह की याचिका को खारिज कर दिया।

हिमाचल मंत्रिमंडल की मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की अध्यक्षता में अहम बैठक हुई। लगभग चार घंटे चली इस बैठक में 118 मुद्दों पर चर्चा हुई। बैठक में हिमाचल के शहरी विकास मंत्री सुधीर शर्मा और पंयाचत राज्य मंत्री अनिल शर्मा भी मौजूद नहीं थे। बैठक में फैसला लिया गया कि चीनी सब्सिडी अब प्रदेश सरकार अपने खर्चे पर देगी। साथ ही जनता को अब तेल में भी चॉव्इस दी जाएगी। वहीं,पथ परिवहन निगम दो सौ पचास छोटी बसें भी खरीदेगा। बैठक में 11 प्राइमरी स्वास्थ्य सेंटरों को भी बनाने के लिए मंजूरी दे दी गई है।

दिल्ली आय से अधिक संपत्ति मामले में घिरे हिमाचल के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को बड़ी राहत मिली है. पटियाला हाउस कोर्ट में सीबीआई की विशेष अदालत ने वीरभद्र सिंह की जमानत याचिका स्वीकार करते हुए उन्हें सशर्त जमानत दे दी है. अदालत ने वीरभद्र सिंह, उनकी पत्नी और मामले से जुड़े बाकी लोगों को भी जमानत दी है. सोमवार दोपहर अदालत ने अपना फैसला सुनाते ह़ुए सीबीआई को भी आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए हैं. केस से जुड़े सभी आरोपियों को एक एक लाख के निजी मुचलके पर जमानत मिली है. इसके अलावा वीरभद्र सिंह अदालत की अनुमति के बिना विदेश भी नहीं जा

हिमाचल विधानसभा के दो दिन के विशेष सत्र का कल समापन हो गया है. खास बात यह रही कि GST बिल पास कराने के लिए बुलाए गए विशेष सत्र में GST बिल पास हो गया. विशेष सत्र के दूसरे दिन एक ऐसा वाक्या हुआ, जिसपर सदन में बैठे हुए सदस्यों ने जोर से ठहाका लगा दिए, हुआ यू कि CM वीरभद्र सिंह स्टेट GST विधेयक सदन में रखने के बाद जैसे ही बैठने लगे उनकी टोपी गिर गई. टोपी उठाने के लिए CM नीचे टेबल के नीचे झुक, तभी विधानसभा के एक कर्मचारी ने उनकी आटोमेटिक टेबल लिफ्ट को नीचे करने

हिमाचल प्रदेश के सीएम वीरभद्र सिंह आय से अधिक संपत्ति मामले में दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में पेश हुए। वीरभद्र सिंह अपनी पत्नी प्रतिभा के साथ कोर्ट में पेश हुए। इस दौरान वीरभद्र सिंह और उनकी पत्नी की ओर से जमानत की अपील की गई, जिसपर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने सीबीआई को नोटिस भेजकर जवाब मांगा है। अब इस मामले पर अगली सुनवाई 29 मई को होगी।

हिमाचल प्रदेश में इसी साल होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी ने तैयारियां तेज कर दी हैं. हाल ही में राजधानी शिमला के स्थित पार्टी के प्रदेश मुख्यालय राजीव भवन में राज्य कार्यकारिणी की बैठक में चुनावी रणनीति पर विस्तार से चर्चा की गई. बैठक में मिशन 2017 के लिए तैयार ब्लू प्रिंट पर चर्चा के साथ ही संगठन चुनावों पर भी बात हुई. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुखविंद्र सिंह सुक्खू की अध्यक्षता में हुई बैठक में कार्यकारिणी सदस्यों, जिला अध्यक्षों के विचार सुनने के बाद सुझावों को मद्देनजर रखते हुए विधानसभा क्षेत्रों के अनुसार मिशन 2017 का खाका

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के आय से अधिक संपत्ति मामले में दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट में आज सुनवाई होगी. आपको बता दें, वीरभद्र सिंह के खिलाफ आय से अधिक मामले में सीबीआई सीएम वीरभद्र समेत नौ लोगों के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर चुकी है. इससे पहले दिल्ली हाईकोर्ट ने एफआईआर रद्द करने की सीएम वीरभद्र सिंह की याचिका खारिज कर दी थी. इस फैसले के खिलाफ सीएम वीरभद्र ने सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी.

पीएम मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के दौरे के बाद विधानसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कांग्रेस विधायक दल की बैठक ली। बैठक में मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि हिमाचल में कांग्रेस पार्टी एकदम मजबूत है और दोबारा से सत्ता में आएगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस से भाजपा के संपर्क में कोई नहीं है। इक्का-दुक्का लोगों को छोड़कर सब पार्टी के साथ खड़े हैं। हिमाचल में कोई मोदी लहर नहीं पहुंची है और न ही कांग्रेस किसी तरह से भाजपा के दबाव में है। उन्होंने कांग्रेस के तमाम विधायकों का आह्वान किया कि