हिमाचल विधानसभा का मानसून सत्र 22 अगस्त से शुरू होगा और 25 अगस्त तक चलेगा। बारहवीं विधानसभा के इस आखिरी सत्र में पांच बैठकें होंगी। प्रदेश सरकार ने प्रस्ताव तैयार कर स्वीकृति के लिए राजभवन भेज दिया है। इस सत्र के हंगामेदार होने के पूरे आसार हैं। बहुचर्चित कोटखाई का गुडि़या प्रकरण और मंडी में फॉरेस्ट गार्ड होशियार सिंह के मामले सदन में गूंज सकते हैं। विपक्ष कानून व्यवस्था को लेकर सरकार को घेरेगा। चंबा के तीसा में छात्रा से रेप के बाद मचे बवाल पर भी हंगामा हो सकता है। मानसून सत्र में सरकार कई अहम अध्यादेश ला सकती है। विधानसभा

चंडीगढ़ के पंजाब भवन में पंजाब कांग्रेस प्रधान सुनील जखड़ ने प्रेस कॉन्फ्रेस की। इस दौरान उन्होंने विधानसभा में हुई घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया, साथ ही विपक्ष के रवैये पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि विधानसभा की घटना पर उन्हें अफसोस है। विपक्षी पार्टियों ने वे मुद्दें नहीं रखे, जिन्हें लेकर वो तीन महीने से सरकार पर हमलावर हो रही थी, लेकिन विपक्षी पार्टियों ने सदन में एक अलग ही माहौल बनाया। उन्होंने सुखबीर सिंह बादल के स्पीकर को लेकर दिए बयान को भी दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया।

पंजाब विधानसभा में दूसरे दिन की कार्यवाही हंगामे के साथ शुरू हुई। विपक्षी दलोें के विधायकाें ने हंगामा शुरू किया और नारेबाजी की तो सत्‍ता पक्ष ने भी इसका जवाब दिया। इससे सदन में भारी शाेरगुल हो गया और इस कारण स्‍पीकर ने सदन की कार्यवाही 30 मिनट के लिए स्‍थगित की दी। सदन की कार्यवाही शुरू होते ही शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के विधायकों ने हंगामा शुरू कर दिया। शिअद के विधायक अपनी सीट से खड़े हो गए और किसानों के मुद्दे पर चर्चा की मांग की। शिअद के विधायक किसानों के मुद्दे पर काम रोको प्रस्ताव लाना चाहते थे।