पिछले महीने उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में हुई जातीय हिंसा की उत्तर प्रदेश सरकार ने जांच रिपोर्ट गृह मंत्रालय को सौंप दी है. रिपोर्ट में कहा गया है कि सहारनपुर में जातीय हिंसा एक बड़ी साजिश का परिणाम थी. साथ ही इस रिपोर्ट में भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर को मुख्य साजिश रचने वाला बताया है. सरकार की इस रिपोर्ट में हिंसा के पीछे चंद्रशेखर के साथ साथ 35 लोगों का हाथ बताया है. इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि हिंसा ना रोक पाने के पीछे दो अफसरों की लापरवाही भी सामने आई है. रिपोर्ट में कहा गया

उत्तर प्रदेश में नई सरकार के गठन के बाद वीवीआईपी लोगों की सुरक्षा में बदलाव किया गया है. सत्ता से बाहर हुए कई नेताओं की सुरक्षा में कटौती की गई है. पिछली सपा सरकार में मंत्री आजम खान की सुरक्षा को जेड श्रेणी से घटाकर वाई श्रेणी का कर दिया गया है. साथ ही बीजेपी सांसद विनय कटियार की सुरक्षा को जेड श्रेणी की सुरक्षा मुहैया कराई गई है. योगी सरकार की सुरक्षा समिति की बैठक में ये फैसला लिया गया है. पूर्व सीएम अखिलेश यादव के चाचा और पूर्व मंत्री शिवपाल यादव की सुरक्षा जेड श्रेणी से घटाकर वाई श्रेणी