पटियाला, अंबाला और करनाल में आंदोलन को लेकर पुलिस प्रशासन पूरी तरह से सतर्क नजर आ रहा है। जगह-जगह पुलिस बल तैनात किया गया है। लोगों को किसी तरह की परेशानी न हो और ट्रैफिक सुचारू रूप से चलता रहे, इसके लिए कई जगह रूट डायवर्ट कर दिए गए है। पुलिस बल की तरफ से पैट्रोलिंग की जा रही है। खुद आला अधिकारियों ने  मौके पर जाकर इंतजामों का जायजा लिया। वहीं पंजाब सरकार ने भी एहतियात के तौर पर दस जुलाई को प्रदेश की अंतरराज्यीय बसों को हरियाणा में नहीं भेजने का फैसला किया है।

बठिंडा/चरखी दादरी/पंचकूला एसवाईएल के मुद्दे पर हरियाणा और पंजाब के बीच एक बार फिर से राजनीति गरमाती जा रही है. बठिंडा पहुंचे पंजाब के कैबिनेट मंत्री मनप्रीत बादल ने एसवाईएल पर बयान दिया. उन्होंने कहा कि हरियाणा प्यार से सबकुछ ले सकता है, लेकिन उसे पंजाब को कानून का डर नहीं दिखाना चाहिए. ऐसा करके हरियाणा पानी नहीं ले सकता क्योंकि कानून हरियाणा के हक में नहीं है. उधर, अभय चौटाला ने केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह पर दोहरा रवैया अपनाने का आरोप लगाया है. राजनाथ सिंह ने कहा है कि अगर बातचीत के जरिए एसवाईएल का पानी आना होता तो वो कब का

सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के बाद एसवाईएल नहर का पानी हरियाणा को मिलने की प्रक्रिया तेज हो गई है। केंद्र सरकार ने हरियाणा और पंजाब के बीच बरसों से चले आ रहे एसवाईएल नहर विवाद को सुलझाने के मकसद से अहम पहल की है। केंद्रीय जल संसाधन मंत्रालय के सचिव दोनों राज्यों के अफसरों के साथ-अलग बैठकें करेंगे। बैठक में हरियाणा की तरफ से मुख्य सचिव डीएस ढेसी और सिंचाई विभाग समेत अन्य सीनियर अफसर हिस्सा लेंगे जबकि पंजाब की तरफ से अतिरिक्त मुख्य सचिव केबीएस सिद्धू और सिंचाई विभाग के सचिव समेत अन्य अधिकारी शामिल होंगे। आपको बता दें, कि पहले