छत्तीसगढ़ के सुकमा में सीआरपीएफ जवानों पर नक्सलियों के हमले में स्थानीय ग्रामीणों के शामिल होने की बात सामने आई है. अंग्रेजी अखबार 'द हिंदू' ने सीआरपीएफ की अंदरूनी जांच के हवाले से लिखा है कि इस हमले में कम से कम तीन गांव के लोगों ने मदद की थी. 24 अप्रैल को हुए इस हमले में सीआरपीएफ के 25 जवान शहीद हुए थे. अखबार ने जांच में शामिल एक सीआरपीएफ अधिकारी के दावे को छापा है. इस अधिकारी के मुताबिक बुर्कापाल, चिंतागुफा और कासलपाड़ा गांव के ज्यादातर लोग हमले में 'अप्रत्यक्ष' तौर पर शामिल थे. इस अधिकारी की मानें तो

छत्‍तीसगढ़ के सुकमा जिले में अलग-अलग जगहों से 19 माओवादियों को गिरफ्तार किया गया है। इनमें से नौ कथित रूप से पिछले हफ्ते सीआरपीएफ जवानों पर हुए भयानक हमले में शामिल थे। सुकमा के अतिरिक्‍त पुलिस अधीक्षक जितेंद्र शुक्‍ला ने बताया कि छह माओवादी चिंतागुफा पुलिस स्‍टेशन इलाके से पकड़े गए, जबकि तीन अन्‍य चिंतालनर पुलिस स्‍टेशन क्षेत्र से गिरफ्तार किए गए।

सोनीपत सुकमा नक्सली हमले में हरियाणा के भी दो जवान शहीद हुए हैं. एक इंद्री हल्के के खेड़ी मानसिंह गांव के रहने वाले सीआरपीएफ जवान राम मेहर और दूसरे सोनीपत के जवान नरेश भी इस हमले में शहीद हुए हैं. वहीं, इंद्री के प्रशासनिक अधिकारी और राज्यमंत्री कर्ण देव कंबोज खेड़ी मानसिंह गांव पहुंचे और शहीद जवान राम मेहर के परीजनों को सांत्वना दी. उधर, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल और केंद्रीय मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह ने सुकमा में शहीद हुए सीआरपीएफ के जवानों के परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए दुख जताया है.   फोटो- बाएं- सीआरपीएफ जवान राम मेहर, दाएं- सीआरपीएफ जवान

तसीगढ़ के सुकमा में 25 सीआरपीएफ जवानों की शहादत के पीछे कुख्यात नक्सली नेता हिडमा का हाथ बताया जा रहा है. बताया जा रहा है कि कमांडर हिडमा ने तीन सौ के करीब नक्सलियों के साथ मिलकर इस हमले को अंजाम दिया. सीआरपीएफ पोजीशन लेकर बैठी थी कि तभी अचानक फायर किया गया. सूत्रों के मुताबिक नक्सली संगठन, पीपुल्स लिबरेशन ऑफ गुरिल्ला आर्मी (पीएलजीए) ने इस हमले को अंजाम दिया है. इस साल 11 मार्च को सुकमा में जो हमला हुआ था जिसमें 12 जवान शहीद हुए थे उसका भी मास्टरमाइंड हिडमा ही था. खुफिया एजेंसियां उसके लोकेशन का पता नहीं

छत्तीसगढ़ में हुए नक्सली हमले में घायल जवान शेर मोहम्मद के लिए उनका पूरा गांव दुआ कर रहा है। उनकी मां ने कहा, उन्हें अपने बेटे पर गर्व है, उसने पांच नक्सलियों को मौत के घाट उतारा है। शेर मोहम्मद का इलाज अस्पताल में चल रहा है। आप भी उनके लिए दुआ करें। [embed]https://www.facebook.com/mhonenewsofficial/videos/1408284355897525/[/embed] आपको बता दें, सुकमा जिले के बुरकापाल के जंगल में सोमवार दोपहर करीब 12.55 बजे 300 से 350 नक्सलियों ने बच्चियों और महिलाओं को ढाल बनाकर रोड ओपनिंग पार्टी पर अंधाधुंध फायरिंग की। रॉकेट लॉन्चर और हैंड ग्रेनेड का भी इस्तेमाल किया। हमले में गश्त के बाद भोजन कर