भारतीय क्रिकेट के लिए जुलाई महीने का दो दिन बेहद खास है. 7 जुलाई को 'कैप्टन कूल' के नाम से मशहूर महेंद्र सिंह धोनी का जन्मदिन है, तो वहीं, 8 तारीख को पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली का बर्थडे है. गांगुली आज अपना 45वां जन्मदिन मना रहे हैं. भारतीय टीम को 'फर्श से अर्श' तक पहुंचाने का श्रेय दादा के नाम से मशहूर सौरव गांगुली को ही जाता है. गांगुली ने 11 जनवरी 1992 को ब्रिस्बेन में वेस्टइंडीज के खिलाफ एकदिवसीय करियर की शुरुआत की थी, लेकिन 1996 के इंग्लैंड दौरे पर अपने पहले ही टेस्ट में शतक लगाने के

दिल्ली रविवार को बर्मिंघम के एडवेस्टर स्टेडियम में हुए भारत-पाकिस्तान मैच के दौरान कॉमेंट्री कर रहे विरेंद्र सहवाग और सौरव गांगुली आपस में मजाक-मजाक में भिड़ते नजर आए. मैच में टीम इंडिया की बैटिंग के दौरान सहवाग ने गांगुली को लेकर कहा कि विकेट के बीच दौड़ के मामले में वो अच्छे नहीं थे. सहवाग ने कहा, ‘‘दादा तेजी से 2 या तीन रन नहीं दौड़ पाते थे, इसलिए कई बार वो रन आउट भी हुए. इससे टीम का स्कोर भी प्रभावित होता था.’’ सहवाग की यह बात सुनने के बाद गांगुली तुरंत एक पर्ची लेकर आए और बोले कि इसमें देखें विकेट