कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक खत्म हो गई है. इस बैठक में राहुल गांधी समेत कई नेता मौजूद रहे. बैठक को संबोधित करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मोदी सरकार को जमकर लताड़ा. सोनिया ने कहा कि मोदी सरकार पिछले तीन वर्षों में कश्मीर, सुरक्षा और विकास हर मुद्दे पर फेल हुई है. बैठक के बाद कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने प्रेस कांफ्रेंस कर मोदी सरकार पर हमला बोला. उन्होने कहा कि एनडीए की तीन साल की सरकार में लोगों को निराशा का ही सामना करना पड़ा है. तीन साल निराशाजनक ही रहे है. उन्होने मोदी सरकार पर आरोप लगाते हुए

दिल्ली राष्ट्रपति चुनाव की सरगर्मियों के बीच बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने पीएम मोदी से हैदराबाद हाउस में लंच पर मुलाकात की है. नीतीश कुमार की इस मुलाकात के बाद अटकलों का बाजार गर्म है. हालांकि, नीतीश कुमार पीएम मोदी के उस लंच में शामिल हुए जो मॉरीशस के पीएम प्रविंद जगन्नाथ के सम्मान में दिया गया. आपको बता दें कि कल नीतीश कुमार सोनिया गांधी की बैठक में नहीं गए, कल सोनिया गांधी की तरफ से बुलाई गई बैठक में विपक्ष के 17 बड़े नेता पहुंचे थे, लेकिन नीतीश कुमार इस बैठक से दूर रहे. ये सच है कि सोनिया गांधी

दिल्ली हाईकोर्ट ने इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को नेशनल हेराल्ड केस की जांच करने की आदेश दिए हैं। इससे सोनिया गांधी की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। बता दें कि नेशनल हेराल्ड में यंग इंडिया, राहुल गांधी और सोनिया गांधी की हिस्सेदारी है। इससे पहले पटियाला हाउस कोर्ट ने इस मामले में सोनिया-राहुल की जांच की परमिशन दी थी।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को फूड प्वाइजनिंग की शिकायत के बाद सर गंगा राम अस्पताल में भर्ती कराया गया है. सर गंगा राम अस्पताल के प्रबंधन बोर्ड के अध्यक्ष डी. एस. राणा ने बताया कि सोनिया गांधी को फूड प्वाइजनिंग के कारण अस्पताल में भर्ती कराया गया है. उन्होंने कहा, अब उनका स्वास्थ्य बेहतर है और उन्हें जल्द ही छुट्टी दे दी जाएगी. अस्पताल ने कहा, उन्हें रविवार को भर्ती कराया गया.

पंजाब कांग्रेस के ऩवनियुक्त अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की. इस दौरान उन्होंने पार्टी के संगठन स्तर को लेकर चर्चा की। इससे पहले शुक्रवार को जाखड़ ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की थी, जिसके बाद उन्होंने MHONE NEWS से खास बातचीत में कहा था कि संगठन और सरकार के बीच में सटीक तालमेल बनाए रखना सबसे बड़ी चुनौती है, जिसको लेकर वह अपनी तरफ से पूरी कोशिश करेंगे ताकि सूबे में विकास हो सके। इसके साथ ही उन्होंने संगठन स्तर पर आने वाले वक्त में आला हाईकमान की तरफ से दिए गए निर्देशों के मुताबिक

हिमाचल प्रदेश को कांग्रेस मुक्त बनाने के लिए भाजपा भविष्य की रणनीति बनाने में लग गई है। कांग्रेस मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह पर कसे शिकंजे के बाद राजनीतिक तौर पर उलझ गई है। कांग्रेस के सामने पांच राज्यों की चुनावी समीक्षा से बड़ा सवाल हिमाचल प्रदेश का है, जहां साल के अंत में विधानसभा चुनाव होने हैं। पार्टी आधिकारिक तौर पर वीरभद्र सिंह के साथ खड़ी दिख रही है लेकिन पार्टी नेता इस मुद्दे पर जल्द फैसला चाहते हैं। हिमाचल से जुड़े पार्टी नेताओं का भी मानना है कि सीएम वीरभद्र के खिलाफ सीबीआई और ईडी की कार्रवाई होने पर पार्टी के