भारतवर्ष की सबसे कठिनतम धार्मिक यात्राओं में से एक श्रीखंड महादेव यात्रा 15 से 30 जुलाई तक आयोजित की जाएगी। 25 जुलाई को श्रद्धालुओं का अंतिम जत्था भेजा जाएगा, जो 30 जुलाई को लौट आएगा। यात्रा से पूर्व 6 जुलाई को निरमंड से पारंपरिक अंबिका माता की छड़ी श्रीखंड महादेव के दर्शन करेगी। कुल्लू जिला स्थित करीब साढ़े 18 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित श्रीखंड महादेव तक पहुंचने में श्रद्धालुओं को करीब 32 किलोमीटर कठिन पैदल रास्ता तय करना पड़ता है। इस बार अधिक बर्फ जमा होने से यात्रा में तैनात दो रेस्क्यू दल श्रीखंड महादेव के रास्ते का पूरा