यूपी के पूर्व सीएम और सपा प्रमुख अखिलेश यादव अपने समर्थकों के साथ औरैया थाना जा रहे थे. वे समाजवादी पार्टी के नेता और पूर्व विधायक प्रदीप यादव से मिलने जा रहे थे. अखिलेश और उनके साथियों को पुलिस ने उन्नाव-एक्सप्रेसवे के पास हिरासत में ले लिया था, लेकिन कुछ देर बाद उन्हें हिरासत से छोड़ दिया गया है. अखिलेश को हिरासत में लिए जाने के बाद समाजवादी कार्यकताओं ने हाईवे पर हंगामा शुरू कर दिया. माहौल को बिगढ़ते देख पुलिस ने उनकी बातों को मानते हुए आश्वासन देकर छोड़ दिया है. गौरतलब है कि  औरैया  में जिला पंचायत अध्यक्ष पद

लखनऊ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ऐलान किया है कि वो पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव द्वारा शुरू किये गए यश भारती सम्मान की जांच कराएंगे. यश भारती सम्मान की शुरुआत मुलायम सिंह यादव की सरकार ने लगभग दो दशक पहले की थी. ये सम्मान सदी के महानायक अमिताभ बच्चन, नसीरुद्दीन शाह, नवाजुद्दीन सिद्दीकी समेत तमाम बड़ी हस्तियों को दिया जा चुका है. साल 1994 में सपा सरकार ने प्रदेश का नाम रोशन करने वाले कलाकारों को सम्मानित करने के लिए इस पुरस्कार की शुरुआत की थी. अखिलेश यादव के मुख्यमंत्री बनने के बाद उन पर इस तरह के आरोप लगते