वैश्विक स्तर पर जलवायु परिवर्तन के चलते पंजाब और हरियाणा में धान के उत्पादन में बड़ी गिरावट देखने को मिल सकती है। वहीं, दूसरी तरफ दोनों राज्यों में इसी अवधि के दौरान आलू के उत्पादन में इजाफा हो सकता है। यही नहीं क्लाइमेट चेंज के चलते भविष्य में दूध के उत्पादन में भी कमी आ सकती है। गुरुवार को लोकसभा में कृषि पर संसद की स्टैंडिंग कमिटी की ओर से पेश रिपोर्ट में यह बात कही गई है। रिपोर्ट के मुताबिक क्लाइमेट तेंज के चलते 2030 तक हरियाणा, पंजाब, पश्चिम और मध्य उत्तर प्रदेश में आलू का उत्पादन 3.46% से बढ़कर