आखिरकार काफी लंबे इंतजार और कई मोड़ों के बाद भारतीय क्रिकेट टीम को अपना नया कोच मिल गया है. कप्तान विराट कोहली की पसंद रवि शास्त्री 2019 वर्ल्डकप तक टीम इंडिया के कोच रहेंगे. रवि शास्त्री के अलावा ज़हीर खान को टीम का बॉलिंग कोच बनाया गया है, वहीं भारतीय क्रिकेट की दीवार कहे जाने वाले राहुल द्रविड़ को विदेशी दौरो के लिए बल्लेबाजी कोच नियुक्त किया गया है. यह फैसला सलाहकार समिति के नेतृत्व में हुआ. इस फैसले को लोग कई तरह से देख रहे हैं. एक तरह से बीसीसीआई ने अपने इस फैसले से सभी को खुश कर

पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर का मानना है कि टीम इंडिया के उनके पूर्व साथी रवि शास्त्री भारतीय टीम का मुख्य कोच बनने के प्रबल दावेदार हैं. शास्त्री ने बीसीसीआई को औपचारिक तौर पर अपना आवेदन सौंप दिया है, जिसके बाद माना जा रहा है कि इस दौड़ में वह सबसे आगे निकल गए हैं. गावस्कर ने एक इंटरव्यू में कहा, 'रवि असल में वह व्यक्ति थे,जिन्होंने 2014 में भारतीय क्रिकेट टीम के कायापलट की शुरुआत की (टीम निदेशक के कार्यकाल के दौरान).' उन्होंने कहा कि इंग्लैंड में भारत की हार के बाद बीसीसीआई ने उन्हें टीम निदेशक के रूप में आने

टीम इंडिया के पूर्व डायरेक्टर रवि शास्त्री ने सोमवार को कोच के लिए अप्लाई किया. ऐसा कहा जा रहा है कि उन्होंने कोच के इंटरव्यू के लिए सारी औपचारिकता पूरी कर दी हैं. इस पोस्ट के लिए 10 जुलाई को मुंबई में इंटरव्यू होंगे. विराट कोहली के पसंदीदा होने की वजह से वे कोच की इस दौड़ में सबसे आगे माने जा रहे हैं. इससे पहले शास्त्री दो साल तक टीम इंडिया के डायरेक्टर रह चुके हैं. बता दें कि जून में चैम्पियंस ट्रॉफी के बाद और वेस्टइंडीज दौरे के ठीक पहले विराट के साथ मनमुटाव की वजह से अनिल कुंबले ने इस्तीफा दे दिया

दिल्ली पूर्व क्रिकेटर और कप्तान रवि शास्त्री ने टीम इंडिया के मुख्य कोच पद के लिए आवेदन करने की बात स्वीकारी है. हाल ही में अनिल कुंबले के इस्तीफा देने के बाद से यह पद रिक्त है और टीम इंडिया वेस्ट इंडीज के दौरे पर बिना हेड कोच के गई है. अनिल कुंबले के इस्तीफा देने के बाद बीसीसीआई ने कोच पद के लिए और आवेदन मंगाए हैं. इस बीच खबर है कि अनिल कुंबले से पहले भारतीय टीम के डायरेक्टर रह चुके रवि शास्त्री हेड कोच के लिए आवेदन करेंगे. बीसीसीआई से जुड़े सूत्रों ने भी इस बात की पुष्टि की