रतिया के कमाना गांव में नाबालिग से दुष्कर्म और हत्या मामले में पुलिस के हाथ खाली हैं. घटना को दो महीनों से ज्यादा का वक्त बीतने के बाद भी पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार नहीं कर पाई है, जिसको लेकर कई संगठनों ने पंचायत की, जिसमें सीएम से मुलाकात और धरना प्रदर्शन करने का फैसला लिया गया. मामले को लेकर रविवार को फिर महापंचायत होगी, जिसमें आगे का फैसला लिया जाएगा. आपको बता दें, 15 जून को कमाना गांव से नाबालिग लड़की का अपहरण हुआ था और दो दिन बाद उसका शव झाड़ियों में मिला था. इस मामले की जांच सीआईए

रतिया के अलीका गांव के सरकारी स्कूल पर छात्रों ने ताला जड़कर सरकार और शिक्षा विभाग के खिलाफ प्रदर्शन किया। दरअसल, सरकारी स्कूल में टीचर्स की भारी कमी है जिससे छात्रों की पढ़ाई बाधित हो रही है। प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने चेतावनी दी है कि जब तक उनके स्कूल में टीचर्स को नियुक्त नहीं किया जाता वे स्कूल का ताला नहीं खोलेंगे।

रतिया के गांव कमाना में दस साल की लड़की के अपरहण के बाद हत्या के मामले में आरोपियों का अभी तक कोई सुराग नहीं मिला है। पुलिस ने इस मामले में आरोपियों का सुराग देने वाले को एक लाख रुपए ईनाम देने की घोषणा की है। इसको लेकर पुलिस ने जगह-जगह इश्तिहार लगाए हैं। पुलिस के मुताबिक पंद्रह जून को गांव कमाना से दस साल की लड़की की अपहरण के बाद हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने इस मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया था।