हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने दिल्ली में देश के नए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात की। ये मुलाकात दिल्ली में सुबह साढ़े दस बजे हुई। राष्ट्रपति बनने के बाद रामनाथ कोविंद से सीएम मनोहर लाल की ये पहली मुलाकात है। सीएम ने इस दौरान राष्ट्रपति को गीता जयंती समारोह में आने का न्योता दिया।

रामनाथ कोविन्द ने भारत के 14वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली, चीफ जस्टिस ने रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति पद की शपथ दिलाई. संसद भवन के सेंट्रल हॉल में आयोजित इस शपथ ग्रहण समारोह में कई गणमान्य लोग मौजूद रहे. शपथ ग्रहण से पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राजघाट जाकर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी. इस दौरान उनकी पत्नी भी मौजूद थीं. नव-निर्वाचित राष्ट्रपति रामनाथ कोविंग के शपथ लेने के बाद उन्हें 21 तोपों की सलामी दी गई. इस समारोह में राज्य सभा के सभापति, प्रधानमंत्री, भारत के मुख्य न्यायाधीश, लोक सभा अध्यक्ष, मंत्री परिषद के सदस्य, राज्यपालगण, मुख्यमंत्रीगण, राजनयिक मिशनों

एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद परवाणू पहुंच गए हैं. परवाणू पहुंचने पर हिमाचल के पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल ने रामनाथ कोविंद का स्वागत किया. इस दौरान केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा और वेंकैया नायडू भी मौजूद रहे. कोविंद परवाणू में सांसदों और विधायकों से समर्थन के लिए मुलाकात कर रहे हैं.

राष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष की उम्मीदवार नामित किये जाने के कुछ दिनों बाद मीरा कुमार सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर आग गई हैं. मीरा कुमार राष्ट्रपति चुनाव के लिए आगामी बुधवार को अपना नामांकन दाखिल करेंगी. सोमवार को उन्होंने ईद की बधाई दी और शाम तक उनके फालोवर की संख्या 2500 से ज्यादा हो गई. हालांकि मीरा कुमार केवल भारतीय कांग्रेस के पेज को फॉलो करती हैं. https://twitter.com/meira_kumar मीरा ने एक अन्य ट्वीट में लोगों से अपील की कि वे राष्ट्रपति चुनाव पर अद्यतन जानकारी के लिए उनके फेसबुक अकाउंट को फालो करें. करीब 31.3 करोड़ सक्रिय ट्विटर इस्तेमालकर्ता हैं जिनमें

एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद ने शुक्रवार को नामांकन दाखिल किया। इस हाई प्रोफाइल कार्यक्रम के लिए बीजेपी के दिग्गज नेताओं के अलावा एनडीए के समर्थक पार्टियों के लीडर्स भी पहुंचे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कुल 20 राज्यों के सीएम इस कार्यक्रम में मौजूद थे। बीजेपी शासित राज्यों के सीएम के अलावा तेलंगाना के सीएम के चंद्रशेखर राव, तमिलनाडु के सीएम पलनिसामी और आंध्र प्रदेश के चंद्रबाबू नायडू भी नामांकन के दौरान मौजूद थे। पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह कोविंद के प्रस्ताव बने। वहीं, बीजेपी के सबसे सीनियर नेता लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर

बिहार के राज्यपाल राम नाथ कोविंद को एनडीए ने राष्ट्रपति पद के लिए अपना उम्मीदवार बनाया है. रामनाथ कोविंद दलित समाज से आते हैं. वे मूल रूप से कानपुर, उत्तर प्रदेश से हैं. वो पिछले तीन साल से बिहार के राज्यपाल के तौर पर काम कर रहे हैं. जानकारी के मुताबिक रामनाथ कोविंद 23 जून को नामांकन करेंगे. एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में अमित शाह ने कहा, एनडीए के सभी सहयोगियों के साथ चर्चा के बाद रामनाथ कोविद का नाम तय किया गया है. बताते चले कि रामनाथ बीजेपी अनुसूचित मोर्चा के अध्यक्ष भी रहे हैं. उपराष्ट्रपति के नाम की चर्चा नहीं शाह ने