किसानों की आत्महत्या देश के कई राज्यों में सरकारों के लिए बड़ी चुनौती बनती जा रही है लेकिन पंजाब के इन सात जिलों में किसानों की आत्महत्या के मामलों में पिछले डेढ़ दशक में तिगुई बढ़ोतरी हुई है। पंजाब यूनिवर्सिटी के सर्वे में इस बात हुई पुष्टि हुई है। सर्वे में बताया गया है कि फरीदकोट, फतेहगढ़ साहिब, होशियारपुर, पटियाला, रूपनगर, एसएएस नगर और श्री मुक्तसर साहिब में 2010 से 2016 के बीच 1309 किसानों ने खुदकुशी की। इससे पहले साल 2000 से 2011 के बीच यह आंकड़ा 365 था। जिनमें से 211 किसान थे और 154, कृषि मजदूर थे। जबकि

चंडीगढ़ पंजाब यूनिवर्सिटी में फीस बढ़ोतरी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे छात्रों और पुलिस के बीच 11 अप्रैल को हुई झड़प में गिरफ्तार 53 छात्रों को कोर्ट से जमानत मिल गई है. छात्रों का कहना है कि फीस बढ़ोतरी के खिलाफ उनका प्रदर्शन जारी रहेगा और इसके लिए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से भी मुलाकात करेंगे और फंड की मांग करेंगे. वहीं दूसरी ओर फीस बढ़ोतरी के खिलाफ एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं ने चंडीगढ़ की सांसद किरण खेर के आवास का घेराव करने पहुंचे, लेकिन चंडीगढ़ पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को पहले ही रोक दिया. इस दौरान चंडीगढ़ पुलिस ने 11 एनएसयूआई कार्यकर्ताओं को

पिछले कई दिनों से पंजाब यूनिवर्सिटी में बिगड़े माहौल के बीच पंजाब के राज्यपाल वीपी बदनौर ने कड़े तेवर दिखाए हैं। हिंसक घटना के बाद राज्यपाल की तरफ से आदेश जारी किया गया है कि पीयू हिंसा में जो निर्दोष स्टूडेंट्स फंसे हैं, उनके लिए एक कमेटी बनाई जाए, कमेटी रिव्यू कर निर्दोष छात्र-छात्राओं की डिटेल दे, ताकि निर्दोष विद्यार्थी इस झंझट से बाहर आ सकें. राज्यपाल ने फीस कैसे कम की जाए, इस पर भी बैठक करने को कहा है। पंजाब के राज्यपाल बदनौर ने वीसी प्रोफेसर अरुण कुमार ग्रोवर सहित यूटी के तमाम अधिकारियों को तलब किया और पंजाब

चंडीगढ़ पंजाब यूनिवर्सिटी के छात्रों और पुलिस के बीच मंगलवार को जमकर झड़प हुई. बताया जा रहा है कि यूनिवर्सिटी द्वारा फीस बढ़ोतरी किए जाने का छात्र विरोध कर रहे हैं. मंगलवार को भी छात्रों के प्रदर्शन को देखते हुए सुरक्षा के मद्देनजर विश्वविद्यालय परिसर में पुलिस फोर्स की तैनाती की गई थी. वहीं प्रदर्शन कर रहे छात्रों को जब पुलिस ने रोकने की कोशिश की तो छात्रों ने पथराव शुरू कर दिया. वहीं, छात्रों द्वारा किए गए पथराव में कई पुलिसकर्मियों को गंभीर चोटें आईं हैं. जिसके बाद पुलिसकर्मियों ने हालात पर काबू पाने के लिए बल प्रयोग किया और छात्रों को