तसीगढ़ के सुकमा में 25 सीआरपीएफ जवानों की शहादत के पीछे कुख्यात नक्सली नेता हिडमा का हाथ बताया जा रहा है. बताया जा रहा है कि कमांडर हिडमा ने तीन सौ के करीब नक्सलियों के साथ मिलकर इस हमले को अंजाम दिया. सीआरपीएफ पोजीशन लेकर बैठी थी कि तभी अचानक फायर किया गया. सूत्रों के मुताबिक नक्सली संगठन, पीपुल्स लिबरेशन ऑफ गुरिल्ला आर्मी (पीएलजीए) ने इस हमले को अंजाम दिया है. इस साल 11 मार्च को सुकमा में जो हमला हुआ था जिसमें 12 जवान शहीद हुए थे उसका भी मास्टरमाइंड हिडमा ही था. खुफिया एजेंसियां उसके लोकेशन का पता नहीं