पेटीएम का भुगतान बैंक कई महीनों की देरी के बाद आखिर अब 23 मई से शुरू हो जायेगा. उसे इसके लिये रिजर्व बैंक से अंतिम मंजूरी मिल गई है. इन सब के बाद पेटीएम पेमेंट बैंक की पहली सीईओ के नाम का भी खुलासा हो गया है. चमोली जिले की रेनू सती ऑनलाइन वॉलेट कंपनी पेटीएम पेमेंट बैंक की सीईओ बनी हैं. आरबीआई ने पेटीएम पेमेंट बैंक के पहले सीईओ के रूप में 41 वर्षीय रेनू के नाम पर मुहर लगाई है. रेनू गौचर के पास झालीमठ गांव की मूल निवासी हैं. फिलहाल वह अपनी मां के साथ दिल्ली में रहती हैं। नोटबंदी

कई महीनों की देरी के बाद आखिर अब पेटीएम का भुगतान बैंक 23 मई से शुरू हो जायेगा. उसे इसके लिये रिजर्व बैंक से अंतिम मंजूरी मिल गई है. पेटीएम ने सार्वजनिक तौर पर जारी नोटिस में कहा है, ‘पेटीएम पेमेंट बैंक लिमिटेड (पीपीबीएल) को रिजर्व बैंक से अंतिम लाइसेंस प्राप्त हो गया है और यह 23 मई 2017 से काम करना शुरू कर देगा.’’ पेटीएम अपना वॉलेट का पूरा कारोबार पीपीबीएल में स्थानांतरित कर देगी. इसमें 21.80 करोड़ मोबाइल बटुआ इस्तेमाल करने वाले लोग जुड़े हैं. भुगतान बैंक का यह लाइसेंस भारतीय निवासी विजय शेखर शर्मा को मिला है. विजय शेखर

चीनी दिग्गज अलीबाबा समर्थित कंपनी पेटीएम ने अपने प्लेटफार्म पर सोना बेचने की शुरुआत की है. इसके लिए कंपनी ने भारत की एकमात्र अंतर्राष्ट्रीय मान्य रिफाइनरी एमएमटीसी-पीएएमपी के साथ साझेदारी की है. कंपनी ने सोमवार को जारी बयान में कहा कि उसके प्लेटफार्म पर ग्राहक 24 कैरेट शुद्धता का सोना खरीद पाएंगे और बिना किसी अतिरिक्त शुल्क के उसे देश की सबसे सुरक्षित और 100 फीसदी बीमाकृत वॉल्ट में संग्रहीत भी कर सकेंगे. लोग मिंटेड सिक्कों के रूप में अपने घर में सोने की डिलिवरी करने का निवेदन भी कर सकते हैं या उसे ऑनलाइन वापस बेच सकते हैं.