दिल्ली विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने शुक्रवार को पासपोर्ट शुल्क में कमी का ऐलान किया. सुषमा ने बताया कि पासपोर्ट शुल्क बनवाने के लिए अब 10 प्रतीशत कम पैसे देने होंगे, लेकिन यह फायदा सबके लिए नहीं है. आठ साल से कम और 60 साल से ज्यादा के लोग ही इसका फायदा उठा सकेंगे. बाकी लोगों को पहले जैसा चार्ज देना होगा. इसके साथ ही सुषमा ने बताया कि पासपोर्ट हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषा में हुआ करेंगे. इसके साथ ही सुषमा ने एक स्टैंप को भी लॉन्च किया. यह स्टैंप पासपोर्ट एक्ट के 50 साल पूरे होने पर लॉन्च की गई. इसके

पासपोर्ट के लिए अब आप हिंदी में भी आवेदन कर सकते हैं. जी हां विदेश मंत्रालय ने पासपोर्ट के लिए ऑनलाइन आवेदन करने के लिए हिंदी का भी एक प्रावधान रखा है. दरअसल, यह कदम हाल ही में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी द्वारा अधिकारिक भाषा पर आधारित संसद समिति की नौवीं रिपोर्ट में भाषा को लेकर किए गए सिफारिशों को स्वीकार करने के बाद उठाया गया है. रिपोर्ट साल 2011 में पेश की गई थी. अब लोग पासपोर्ट का एप्ल‍िकेशन हिंदी में डाउनलोड कर सकते हैं और भर सकते हैं. समिति द्वारा यह सुझाव दिया गया है कि पासपोर्ट बनाने वाले सभी दफ्तरों