वॉशिंगटन अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने रविवार को हालिया मिसाइल परीक्षण के बाद उत्तर कोरिया पर आर्थिक और कूटनीतिक दबाव और भी कड़ करने का फैसला किया है. इससे पहले उत्तर कोरिया के जापान के ऊपर से मिसाइल दागने के 2 दिन बाद ट्रंप ने फोन पर दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति जाए इन मून से बातचीत की. ट्रंप और मून ने प्रतिरोधक और रक्षा क्षमताओं को मजबूत बनाने और उत्तर कोरिया पर आर्थिक और कूटनीतिक दबाव को अधिकतम करने के प्रति प्रतिबद्धता जताई. दोनों नेताओं के बीच हुई बातचीत के बाद दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति कार्यालय के प्रवक्ता पार्क सु ह्येन

बीजिंग हाल ही में उत्‍तर कोरिया द्वारा छठा परमाणु परीक्षण किए जाने से कई देश हिल गए। खास तौर से अमेरिका, जिसके सब्र का बांध टूट गया। ऐसे में उत्‍तर कोरिया पर और कड़े प्रतिबंध लगाने का एक मसौदा तैयार किया गया, जिसे संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद ने सर्वसम्‍मति से पास कर दिया। सभी सदस्‍य देशों ने संयुक्त राष्ट्र की बैठक में 15-0 से वोट देकर इस पर सहमति जताई। वहीं चीन ने भी इसका समर्थन किया है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता गेंग शुआंग ने मंगलवार को कहा कि उत्‍तर कोरिया के परमाणु परीक्षणों के बाद कोरियाई प्रायद्वीप में पैदा हुए

प्योंगयांग उत्तर कोरिया में रविवार को छठे परमाणु परीक्षण की सफलता पर लाखों लोगों ने सड़कों पर आकर जश्न मनाया। उन्होंने पटाखे चलाकर और जुलूस निकालकर उन वैज्ञानिकों के प्रति आभार जताया जिन्होंने हाइड्रोजन बम बनाकर उत्तर कोरिया को चुनौती देने लायक बनाया। इस मौके पर लोग हाथ से हाथ मिलाकर सड़क के किनारों पर खड़े हुए और बस से गुजर रहे वैज्ञानिकों को देखकर खुशी का इजहार किया। इस मौके पर हुई जनसभा में वक्ताओं ने कहा, उत्तर कोरिया ने दुनिया से अमेरिका की दादागीरी खत्म कर दी है। बता दिया है कि अगर हमले की कोई हिमाकत की गई तो

वाशिंगटन अमेरिकी और उत्तर कोरिया के बीच तनाव कम होने का नाम नहीं ले रहा है। नॉर्थ कोरिया द्वारा अमेरिकी द्वीप गुआम पर मिसाइल हमले की धमकी के बाद अब अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन का बयान आया है। उन्होंने कहा है कि अगर कोरिया हमारे किसी सहयोगी गुआम, जापान या दक्षिण कोरिया पर हमला करता है तो हम नॉर्थ कोरिया के खिलाफ बल प्रयोग के लिए तैयार हैं। गौरतलब है कि यह बयान ऐसे समय में सामने आया है, जब राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रमुख रणनीतिकार स्टीव बैनन ने कहा है कि उत्तर कोरिया की ओर से पेश खतरे और उसकी

उत्तर कोरिया मसले को लेकर चीन ने अमेरिका को कड़ी चेतावनी दी है. चीनी मीडिया ने कहा कि अमेरिका उत्तर कोरिया से जंग जीतने का सपना न देखे. उसके लिए उत्तर कोरिया से जीतना बेहद मुश्किल होगा. चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने अपने संपादकीय में लिखा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया को तबाह करने की धमकी दी, जिसके बाद उत्तर कोरिया ने भी उसके गुआन स्थित सैन्य ठिकाने पर मिसाइल दागने की डेड लाइन घोषित कर दी है. माना जा रहा है कि उत्तर कोरिया अगस्त महीने के मध्य तक गुआन पर हमला कर देगा. दरअसल, हाल ही

उत्तर कोरिया ने अपनी हालिया इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल (ICBM) के सफल परीक्षण पर ख़ुशी जाहिर करते हुए इसे अमरीका के लिए कड़ी चेतावनी बताया है. उत्तर कोरिया की सरकारी मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, शीर्ष नेता किम जोंग-उन ने कहा कि टेस्ट में यह साबित हो गया है कि अब पूरा अमरीका उनकी ज़द में है. मिसाइल का यह परीक्षण उत्तर कोरिया के पहले ICBM के तीन हफ़्ते बाद किया गया है. अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया के इस कदम को ''बेहद लापरवाही भरा और ख़तरनाक'' बताया है. चीन ने भी मिसाइल परीक्षण की निंदा की है साथ ही सभी संबंधित देशों

वॉशिंगटन अमरीका ने दावा किया है कि उत्तर कोरिया ने एक नए रॉकेट इंजन का परिक्षण किया है जो कि अमरीका तक पहुंचने वाली मिसाइल बनाने वाले प्रोजेक्ट का हिस्सा है. ये ख़बर एक ऐसे समय में आई है जब दोनों देशों के बीच उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम को लेकर तनाव जारी है. ट्रंप प्रशासन लगातार उत्तर कोरिया के ऐसे कार्यक्रमों का विरोध करता रहा है. लेकिन अंतरराष्ट्रीय निंदा के बावजूद उत्तर कोरिया ने अपनी मिसाइल परीक्षण बढ़ा दिए हैं जिसका उद्देश्य अंतर महाद्वीपीय परमाणु मिसाइल बनाना है. अमरीकी अधिकारियों ने नाम ना बताने की शर्त पर कई एजेंसियों को बताया है कि

सिओल अमेरिका की चेतावनी और उसके साथ तनाव के बावजूद नॉर्थ कोरिया लगातार मिसाइल परीक्षण करने में लगा है. ताजा मामले में दक्षिण कोरिया ने बताया है कि नॉर्थ कोरिया ने एक और बलैस्टिक मिसाइल परीक्षण किया है. इस बार एक कम दूरी की बैलेस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया गया है जो जापान सागर में जाकर गिरी है. अमेरिकी सैन्य मॉनिटर्स ने बताया कि जापान सागर में गिरने से पहले ये मिसाइल उत्तर कोरिया के समुद्री तट से 450 किमी. हवा में रही. तीसरे हफ्ते में यह उत्‍तर कोरिया का तीसर मिसाइल परीक्षण है. उत्‍तर कोरिया अमेरिकी युद्धपोत पर हमले की धमकी भी

अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच तनाव कम होने की बजाय और बढ़ता ही जा रहा है. अमेरिका ने अपना दूसरा जंगीबेड़ा USS रोनाल्ड रीगन कोरियाई प्रायद्वीप की ओर बढ़ा दिया है. जो USS कार्ल विंसन के साथ सैन्य अभ्यास करेगा. हाल ही में उत्तर कोरिया की ओर से फिर से मिसाइल परीक्षण करने के बाद अमेरिका का यह कदम सामने आया है, अमेरिकी सुरक्षा अधिकारियों ने इसकी जानकारी दी. USS रोनाल्ड रीगन के क्षेत्र में पहुंचने पर विमान सैन्याभ्साय करेगा, लेकिन इसका ध्यान मुख्य रूप से सुरक्षित लॉन्च पर होगा. अमेरिकी नौसेना के मुताबिक, 1,092 फुट के रीगन में 4,539 क्रू मेंबर

संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद ने मिसाइल टेस्ट करने पर एक मत से उत्तर कोरिया की आलोचना की है और इसके साथ ही नए प्रतिबंध लगाने की चेतावनी भी दी है. आपको बता दें कि रविवार को किए गए परिक्षण के बाद उत्तर कोरिया ने कहा था कि यह परिक्षण एक नए तरह के रॉकेट का था जो बड़े परमाणु वॉरहेड ले जाने में सक्षम है. 15 सदस्यीय सुरक्षा परिषद ने एक बयान जारी कर उत्तर कोरिया से आगे और मिसाइल टेस्ट न करने की मांग की है. टेस्ट में ये मिसाइल 2000 किलोमीटर की ऊंचाई तक गई और 700 किलोमीटर की