हिमाचल प्रदेश के मंडी में भूस्खलन में मरने वालों की संख्या बढ़कर 46 हो गई है। ये सभी मृतक उन दो रोडवेज की बसों के यात्री हैं जो भूस्खलन की चपेट में आ गई थी। वहीं, मृतकों की संख्या बढ़ने की आशंका जताई जा रही है। यह हादसा शनिवार की देर रात हुआ। एक बस चंबा से मनाली जा रही थी, जबकि दूसरी मनाली से जम्मू के कटरा के सफर पर थी। रात होने के कारण राहत और बचाव का काम सुबह तक के लिए रोक दिया गया है। बताया जा रहा है कि यह हादसा तब हुआ जब दोनों बसें

मनाली राष्ट्रीय मार्ग- 21 पर मंडी जिला के पंडोह के पास शनिवार सुबह 8 बजे भूस्खलन से 200 से 300 वाहन फंस गए हैं। इस लैंड स्लाइड्स से टूरिस्टों को काफी परेशानी हो रही है। हालांकि, विभाग के लोग रास्ता खुलवाने की पूरी कोशिश में लगे हैं। फिर भी जाम ज्यादा न बढ़े, इसलिए प्रशासन लोगों को बाया कटाला भेज रहा था। यहां से टूरिस्ट बजौरा होते हुए मंडी के लिए आसानी से पहुंच सकते हैं। इस दौरान एनएच-21 पर पंडोह से 3 किलोमोटर आगे डयोढ़ के पास पहाड़ी से गिरे पत्थरों के कारण लगभग 3 किलोमीटर मार्ग के दोनों तरफ

फॉरेस्ट गार्ड होशियार सिंह की डायरी में मिले नोट में अवैध कटान की बात धरातल पर सच साबित हो रही है। सोमवार को वन विभाग की टीम ने सेरी कतांडा बीट का निरीक्षण किया। इस दौरान यहां भारी अवैध कटान के सबूत मिले हैं। टीम को करोड़ों की कीमत के देवदार के 68 पेड़ों के ताजे ठूंठ मिले हैं। इसके अलावा सड़क के नजदीक छिपाए दो दर्जन से ज्यादा देवदार के स्लीपर भी बरामद किए गए हैं। इन्हें वन विभाग ने कब्जे में ले लिया है। लोटरानाला के पास भी कई पेड़ों के ठूंठ मिले हैं। इतने बड़े पैमाने पर

करनाल में 21 मई को हरियाणा एग्रो में मंडी इंस्पेक्टर सुभाष ने खुदकुशी कर ली। पीड़ित परिजनों ने इसका आरोप असंध के विधायक समेत आठ लोगों पर लगाया था, लेकिन अभी तक उनके खिलाफ कोई कार्रवाई ना होने से परिजनों ने लघु सचिवालय के बाहर प्रदर्शन किया और इंसाफ की मांग की। रिजनों का आरोप है कि 22 दिन बीत जाने का बाद भी पुलिस इस मामले में अभी तक आरोपियों को गिरफ्तार नहीं कर सकी है। वहीं. मृतक की पत्नी ने धमकी दी है कि अगर उन्हें इंसाफ नहीं मिला, तो वो अपने दोनों बच्चों के साथ आत्महत्या कर लेंगी।

घर तक पहुंचाने का झांसा देकर दो दरिंदों ने कमरे में ले जाकर नेत्रहीन युवती के साथ गैंगरेप किया। मामला हिमाचल के मंडी जिले का है। इससे पहले की लड़की के चिल्लाने की आवाजें सुनकर गांव के लोग पहुंचते दरिंदे युवती को हवस का शिकार बना चुके थे।  मौके पर पहुंची ग्रामीण महिलाओं ने युवती को कमरे से बाहर निकाला और दोनों युवकों को कमरे के अंदर बंद कर दिया। सूचना पुलिस चौकी में दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार लिया है। मेडिकल में भी रेप की पुष्टि हो चुकी है। युवती दलित समुदाय से

हिमाचल के मंडी में बड़ा हादसा हो गया है। यहां सगाई कर लौट रहे एक परिवार के पांच लोगों की सड़क हादसे में मौत हो गई है। ताजा सूचना के अनुसार हादसे में कुल 6 लोगों की मौत हो गई है। जानकारी के अनुसार धर्मपुर ‌उपमंडल के बरांग पंचायत में बरांग पुल के समीप एक जाइलो गाड़ी अनियंत्रित होकर 600 फुट गहरी खाई में गिर गई। परिवार के सदस्य दो गाड़ियों में सवार थे। । सवा पांच बजे के करीब बरांग पुल के समीप पहुंचते शरीफ खान ने गाड़ी से नियंत्रण खो दिया जिससे कार 600 फुट गहरी खाई में गिर

बग्गी-सुंदरनगर बीएसएल नहर किनारे लापरवाही के चलते हादसे थमने का नाम नही ले रहे यहां हाल ही में एक गाड़ी बेकाबू होकर नहर में जा गिरी, जिसमें पांच लोग सवार थे। हालांकि इन सभी को समय रहते गांव वालों ने नहर से बाहर निकालकर बचा लिया। जानकारी के मुताबिक, महिंद्रा टीयू वाहन अचानक बेकाबू हो गया और पैरापीट और क्रेश बैरियर न होने के चलते सीधा बीएसएल नहर में जा गिरा। इसी बीच स्थानीय लोगो ने तुरंत बचाव कार्य शुरू किया और रस्सियों की सहायता से पांचों युवकों को नहर से बाहर निकाला लिया। वहीं नहर के पास सुरक्षा इंतजाम नहीं होने से

पवित्र रिवालसर झील के पानी का रंग बदलने से क्षेत्र में हड़कंप मच गया है। अभी तक पानी के रंग बदलने के कारणों का पता नहीं चल सका है। मंगलवार को मामले की जानकारी के बावजूद प्रशासनिक अधिकारी मौके से नदारद रहे जिससे स्थानीय लोगों में प्रशासन के प्रति रोष है। मामले में एडीसी मंडी हरिकेश मीणा की अध्यक्षता में बैठक होगी। झील के पानी के सैंपल लेकर प्रयोगशाला में जांच के लिए भेजे गए हैं। वहीं, लोग झील के पानी का रंग बदलने को लेकर विभिन्न कयास लगा रहे हैं। लोगों का कहना है कि मामले की प्रशासन को सूचना

मंडी नाचन हलके के दयारगी में एक कार के ब्यास-सतलुज लिंक परियोजना की नहर में गिरने से चार युवक पानी के तेज बहाव में बह गए, जबकि एक युवक किसी तरह अपनी जान बचाने में कामयाब रहा. सर्च अभियान के बाद गोताखोरों ने घटनास्थल से करीब पचास मीटर की दूरी पर नहर से कार को ढूंढ निकाला, लेकिन पानी में बहे चारों युवकों का कोई सुराग नहीं लग पाया. नंगल डैम से आए बीबीएमबी के गोताखोरों का दल सर्च अभियान में लगा हुआ है. जानकारी के मुताबिक, तमरोह पुल के पास कार बेकाबू होकर बीएसएल नहर में गिर गई, इससे कार सवार पांचों

हिमाचल के सुंदरनगर में बड़ा हादसा हो गया। एक टाटा जेस्ट कार बेकाबू होकर बीएसएल नहर में जा गिरी। हादसे में चार युवक अब तक लापता बताए जा रहे हैं। वहीं, एक युवक ने तैर कर अपनी जान बचा ली। प्रारंभिक सूचना के अनुसार यह हादसा देर रात हुआ। कार में सवार होकर पांच युवक सुंदरनगर के दरयागी से गुजर रहे थे कि अचानक कार बेकाबू होकर नहर में जा गिरी। इस कार में कुल पांच युवक सवार थे जिनमें से एक ने तैर कर अपनी जान बचाई। जिस युवक पुनीत कुमार(20) की जान बची है वह नेवी में तैनात है। यह