केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा कि कर्जमाफी फैशन बन चुकी है और लोन माफ करना समस्या का आखिरी समाधान नहीं है. केंद्रीय मंत्री की यह टिप्पणी पिछले दिनों में कुछ राज्यों द्वारा किसानों के कर्ज माफ किए जाने के बाद आई है. हालांकि अपनी टिप्पणी पर विवाद होने की आशंका को देखते हुए वेंकैया नायडू ने बाद में सफाई भी दी. गौरतलब है कि बुधवार को कर्नाटक ने भी किसानों की कर्जमाफी का ऐलान किया था. एक न्यूज एजेंसी की ख़बर के मुताबिक केंद्रीय शहरी विकास मंत्री वैंकेया नायडू ने गुरुवार को कहा, 'कर्जमाफी अब फैशन बन चुका है, कर्जमाफी

किसानों का उग्र आंदोलन देखने के बाद महाराष्ट्र सरकार ने उनका कर्ज माफ कर दिया है। मध्यप्रदेश सरकार ने तो पहले से बिना ब्याज का कर्ज दे रखा था और अब मूल भी माफ करने पर विचार चल रहा है। इसमें कोई शंका नहीं है कि मौजूदा व्यवस्था में किसानों को उनकी खून-पसीने की मेहनत का पूरा फल नहीं मिल पा रहा है, लेकिन कर्ज माफी इलाज नहीं है। वास्तव में कर्ज माफी का पूरे देश की अर्थव्यवस्था पर असर पड़ेगा और आम आदमी को ही इसका बोझ उठाना पड़ेगा। यूं होगा सब पर असर 1. आशंका जताई जा रही है कि

लखनऊ यूपी में सीएम योगी मंगलवार को कैबिनेट की दूसरी बैठक हुई. इस बैठक में 24 घंटे बिजली देने के अलावा रोस्टर प्रणाली को जमीनी स्तर पर लागू करने को मंजूरी दी गई. बैठक में लिए गए फैसलों की जानकारी देते हुए कैबिनेट मंत्री श्रीकांत शर्मा ने कहा की सरकार किसानों के प्रति समर्पित है. अक्टूबर 2018 तक हर जगह 24 घंटे बिजली दी जाएगी. इससे पहले गांवों को 18 घंटे, तहसील मुख्यालय को 20 घंटे बिजली दी जाएगी. साथ ही बुंदेलखंड को भी 20 घंटे बिजली दी जाएगी. इसके अलावा जिला मुख्यालय को 24 घंटे बिजली दी जाएगी. उन्होंने आगे कहा कि