जाट आंदोलन में आरक्षण समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष यशपाल मलिक पर 500 रुपये का जुर्माना लगा है।  हिसार के सीजेएम मनप्रीत सिंह की अदालत ने जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान हिसार-दिल्ली मार्ग पर गांव मय्यड़ में रेलवे ट्रैक बाधित करने के जुर्म में अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष यशपाल मलिक को 500 रुपये जुर्माना लगाया है। आरपीएफ ने इस बारे में 1 मार्च 2014 को केस दर्ज किया था। अदालत में चले अभियोग के अनुसार जाट आरक्षण की मांग को लेकर आंदोलनकारियों ने कई दिन गांव मय्यड़ में रेलवे ट्रैक जाम रखा था। इससे रेलगाड़ियों को आवागमन

केंद्र सरकार में मंत्री और हरियाणा से राज्यसभा सांसद चौधरी बीरेंद्र सिंह ने जाट आंदोलन का समर्थन किया किया।  जाट आरक्षण की वकालत करते हुए केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह ने कहा कि अब हम भी आपके बराबर आने वाले हैं। हम तो एससी बनने के लिए भी तैयार हैं। आपके छोटे भाई बनकर रहेंगे। आप ओर हम एकजुट हुए तो फिर कोई नहीं हरा पाएगा। उन्होंने कहा कि समाज को जोड़ने में सालों लगते हैं और तोड़ने में एक मिनट। हमारे आपसी सामाजिक रिश्ते-नाते ही हमारी ताकत हैं, जो हमें सामाजिक रूप से जोड़े हुए  हैं। देश की 125 करोड़ की