बीजिंग चीन ने बुधवार को कहा कि उसके पास भारतीय वायुसेना के लापता सुखोई लड़ाकू विमान के बारे में कोई जानकारी नहीं है. इसके साथ ही चीन ने भारत को सलाह दते हुए कहा कि वह दो पक्षों के बीच शांति कायम करने के लिए बनी व्यवस्था का पालन करे. चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लु कांग से लापता सुखोई-30 एमकेआई लड़ाकू विमान के बारे में पूछा गया था, साथ ही यह भी पूछा गया था कि क्या चीन लापता विमान को खेाजने में भारत की मदद करेगा, तो उन्होंने कहा, ‘‘जिस स्थिति का आपने जिक्र किया है, उसके संबंध

भारत-चीन सीमा के पास भारतीय वायुसेना का सुखोई-30 जेट लापता हो गया है. बताया जा रहा है कि विमान में दो पायलट सवार थे. उड़ान के बाद रडार से संपर्क टूटने के बाद विमान लापता हो गया. इस विमान ने असम के तेजपुर एयरबेस से सुबह 10.30 बजे उड़ान भरी थी लेकिन 11 बजे के बाद इसका रेडियो और रडार संपर्क टूट गया. आपको बता दें कि यह विमान अंतिम बार तेजपुर से 60 किलोमीटर उत्तर में देखा गया था. वायुसेना ने लापता विमान की तलाशी का अभियान शुरू कर दिया है लेकिन अभी तक कुछ पता नही चल पाया है.