हिमाचल प्रदेश के मनाली में बादल फट गया है। जानकारी के मुताबिक रोहतांग टल के पास ये बादल फटा है जिसकी वजह से पूरी की पूरी सड़क बह गई है। मौके पर राहत बचाव दल पहुंच चुका है और मौके का जायजा ले रहा है। स्थानीय प्रशासन भी मौके पर मौजूद है।

प्रदेश के विभिन्न इलाकों में 29 जुलाई तक बादल झमाझम बरसेंगे। मौसम विज्ञान केंद्र ने अगले एक हफ्ते तक के लिए बारिश का अनुमान जताया है। रविवार सुबह दिनभर बारिश हुई। बारिश के चलते कुछ जगहों पर जहां मौसम खुशनुमा बना रहा, वहीं कुछ जगह बारिश आफत बन गई। रविवार को सोलन में 7 मिलीमीटर बारिश रिकार्ड की गई जबकि शिमला में .6 मिली मीटर बारिश हुई। वहीं, क्षेत्र की टिहरी पंचायत के मरोगी में ल्हासे गिरने से यातायात बाधित हुआ है। रामपुर में शनिवार देर रात बारिश होने से कई संपर्क मांग कुछ घंटों के लिए बंद रहे। किन्नौर में

कुल्लू जिला मुख्यालय से सटे रामशीला के पास एक कार बेकाबू होकर ब्यास नदी में जा गिरी। इस हादसे में एक व्यक्ति की मौत हो गई जबकि एक महिला के बहने की आशंका है। पुलिस के अनुसार रविवार दोपहर बाद मनाली से कुल्लू की तरफ आ रही एक कार अनियंत्रित होकर ब्यास नदी में जा गिरी। ाहादसे की सूचना फोरलेन का काम कर रहे मजदूरों ने पुलिस को दी। सूचना मिलते ही पुलिस समेत स्थानीय लोग मौके पर पहुंचे। तलाश के दौरान कुछ ही दूरी पर एक व्यक्ति का शव बरामद किया गया। कार को क्रेन से बाहर निकाला गया। कार

हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस के छह विधायकों ने मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के खिलाफ हाईकमान को पत्र लिखा है।इस पत्र में सीएम वीरभद्र सिंह को सीएम पद से हटाने की मांग की गई है। इस पत्र की एक कॉपी प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुखविंदर सुक्खू को भी भेजी गई है। सूत्रों के मुताबिक विधायकों का आरोप है कि कोटखाई मामले को निपटाने में वीरभद्र सरकार असफल रही है। कांग्रेस विधायक कोटखाई मामले में सीएम वीरभद्र के गैर जिम्मेदाराना बयान से नाराज हैं।

कांग्रेस ने वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सुशील कुमार शिंदे को पार्टी महासचिव अंबिका सोनी की जगह शनिवार को हिमाचल प्रदेश का प्रभारी नियुक्त किया। पार्टी सांसद रंजीत रंजन को राज्य का सह प्रभारी नियुक्त किया गया है। पार्टी ने यह नियुक्ति तब की है, जब सोनी ने स्वास्थ्य कारणों से पार्टी हाईकमान से अनुरोध किया था कि उन्हें हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के महासचिव प्रभारी की जिम्मेदारी से मुक्त कर दिया जाए। कांग्रेस की तरफ से जारी एक बयान में कहा गया है, 'कांग्रेस अध्यक्ष ने हिमाचल प्रदेश में पार्टी के मामलों को देखने के लिए अंबिका सोनी और

मनाली राष्ट्रीय मार्ग- 21 पर मंडी जिला के पंडोह के पास शनिवार सुबह 8 बजे भूस्खलन से 200 से 300 वाहन फंस गए हैं। इस लैंड स्लाइड्स से टूरिस्टों को काफी परेशानी हो रही है। हालांकि, विभाग के लोग रास्ता खुलवाने की पूरी कोशिश में लगे हैं। फिर भी जाम ज्यादा न बढ़े, इसलिए प्रशासन लोगों को बाया कटाला भेज रहा था। यहां से टूरिस्ट बजौरा होते हुए मंडी के लिए आसानी से पहुंच सकते हैं। इस दौरान एनएच-21 पर पंडोह से 3 किलोमोटर आगे डयोढ़ के पास पहाड़ी से गिरे पत्थरों के कारण लगभग 3 किलोमीटर मार्ग के दोनों तरफ

हिमाचल के कोटखाई में दसवीं कक्षा की छात्रा की गैंगरेप के बाद हत्या मामले की जांच अब सीबीआई करेगी. प्रदेश हाईकोर्ट ने बुधवार को सरकार के आवेदन पर सीबीआई को मामले की जांच करने के निर्देश जारी कर दिए. कोर्ट ने निदेशक सीबीआई को निर्देश दिए कि वह मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन करे. एसआईटी में एक एसपी और दो डीएसपी स्तर के अधिकारियों को शामिल किया जाए. कोर्ट ने सीबीआई को दो हफ्ते में स्टेटस रिपोर्ट दायर करने के भी आदेश दिए हैं. हिमाचल सरकार से कोर्ट ने मामले में सीबीआई हर संभव मदद देने को कहा

मनाली- लेह हाइवे पर राहनी-नाला के पास भू-स्खलन हो गया, जिसके बाद 150 से ज्यादा गाड़ियां इस रास्ते पर फंस गई. पिछले कई दिनों से हो रही तेज बारिश के बाद  इलाके में कई जगहों पर भू-स्खलन की खबरें आई,  इन गाड़ियों में कई पर्यटकों के फंसे होने की सूचना मिल रही है. पर्यटकों ने भूखे पेट गाड़ियों में बिताई रात मनाली जा रहे कई पर्यटकों ने बताया कि देर शाम भू-स्खलन हुआ था। जिसके बाद से पर्यटकों को रात भूखे पेट अपनी-अपनी गाड़ियों में ही गुजारनी पड़ी। वहीं दूसरी ओर सीमा पर संगठन के कमांडर कर्नल एके अवस्थी को भी इस

कोटखाई में दसवीं की छात्रा से दुराचार और हत्या मामले का सात दिन बाद भी खुलासा न होने से सरकार की मुश्किलें बढ़ गई हैं. भाजपा इस प्रकरण पर मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को निशाने पर ले रही है, जबकि अन्य सामाजिक संगठन और राजनीति दलों ने भी पुलिस जांच को कटघरे में खड़ा किया है. प्रदेश भाजपा भी जनता के साथ सीबीआई जांच की मांग कर रही है. प्रदेश कांग्रेस संगठन भी पुलिस जांच से अंसतोष जता चुका है. होशियार सिंह प्रकरण के बाद इस मामले पर सियासी रंग चढ़ने से हर गुजरते दिन के साथ जनता में गुस्सा भी बढ़ता