मानसून लगातार सितम ढा रहा है. भारी बारिश व बाढ़ से बुधवार को उत्तर प्रदेश में सात, असम में पांच, मध्य प्रदेश में दो, उत्तराखंड दो व बिहार में एक व्यक्ति की मौत हो गई. ज्यादातर पहाड़ी व मैदानी राज्यों में बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त है. कई राज्यों में राष्ट्रीय राजमार्ग बाधित होने से लोगों को आवागमन में दिक्कतों का सामना करना पड़ा. वहीं उत्तराखंड में भूस्खलन व बारिश से तीर्थ यात्रियों को खासी दिक्कतें हुईं. राज्यभर में नदी-नाले उफान पर हैं. हरिद्वार में गंगा चेतावनी रेखा से ऊपर बह रही है। टिहरी झील के जल स्तर में तीन मीटर का

चंडीगढ़ सावन की झड़ी से पंजाब व हरियाणा बुधवार को तर-ब-तर हो गया. सुबह से ही बारिश की तेज फुहारों ने पिछले कुछ दिनों से पड़ रही उमस भरी गर्मी से राहत दिलाई. हालांकि बारिश ने शहरों में नगर निगम की पोल भी खोल दी. ड्रेनेज सिस्टम ठीक न होने के कारण पानी सड़कों पर जमा हो गया, जिससे वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ा. कुछ जगहों पर जलभराव की समस्या के कारण वाहनों की रफ्तार थमी रही. मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार मानसून ने पंजाब व हरियाणा में पूरी तरह से दस्तक दे दिया है. बारिश के चलते सुबह स्कूली बच्चों