आज सिखों के पांचवें गुरू अर्जुन देव जी का शहीदी दिवस है। उन्हें आध्यात्मिक जगत में गुरु के रूप में सर्वोच्च स्थान प्राप्त है। अपने धर्म के प्रति निष्ठां और धर्मनिरपेक्षता के लिए अपनी प्राण की आहुति देने वाले अर्जुन देव जी का जन्म गोइंदवाल साहिब में 18 वैशाख 7 विक्रम संवत तदनुसार 15 अप्रैल 1563 ईस्वी को हुआ था । वे सिखों के परम पूज्य चतुर्थ अर्थात चौथे गुरु गुरु राम दास के सुपुत्र थे और उनकी माता का नाम बीवी भानी जी था। उनका विवाह 1579 ईसवी में हुआ था । उनकी पत्नी का नाम गंगा जी तथा