इसरो ने जीसैट 9 लॉन्च किया । इसे श्रीहरिकोटा के स्पेस पोर्ट से जीएसएलवी-एफ09 रॉकेट के जरिए छोड़ा गया। सैटेलाइट का वजन 2,195 किलोग्राम है, जो 12-केयू बैंड के ट्रांसपोडर्स लेकर गया है। इस मिशन को अगले 12 साल तक के लिए डिजाइन किया गया है। पहले इसका नाम 'सार्क सैटेलाइट' था, लेकिन पाकिस्तान के बाहर होने के बाद इसे साउथ ईस्ट सैटेलाइट नाम दिया गया। इसे साउथ एशिया रीजन के डेवलपमेंट के लिए डिजाइन किया गया है। चूंकि, ये क्षेत्र आपदा संभावित है, इसलिए आपदा के समय ये सैटेलाइट इन देशो के बीच कम्युनिकेशन में मददगार होगा। इसके जरिए साउथ एशिया