मुंबई मुंबई से तकरीबन 80 किलोमीटर दूर कल्याण-बदलापुर हाइवे पर किसानों ने सुबह से चक्का जाम किया हुआ है. कई गाड़ियों में तोड़फोड़ की और टायर जलाकर अपना विरोध जताया है. कई प्राइवेट गाड़ियों के साथ पुलिस की भी एक गाड़ी जलाई गई है. सैकड़ों की संख्या में लोग सड़क पर जमा हैं, जिनमें बड़े-बूढ़े और महिलाएं भी शामिल हैं. पुलिस उन्हें हटाने की कोशिश में जुटी है, लेकिन किसानों की संख्या देखते हुए पुलिस कम पड़ रही है. हालात को देखते हुए अब आरसीपी और एसआरपी की अतिरिक्त टुकड़ियां भेजी गई हैं. https://twitter.com/ANI_news/status/877758814539227136 जानकारी के मुताबिक, सरकार हवाई अड्डे के लिए जमीन अधिग्रहण

भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) विश्व योग दिवस के दिन 21 जून को प्रदेश के 15 जिलों में रास्ता रोकेगी. इस दिन सुबह 9 से 12 बजे तक किसान सड़कों पर योग करेंगे और अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन करेंगे. आपको बता दें शनिवार को जींद के किसान भवन में प्रदेशाध्यक्ष रतनमान की अध्यक्षता में हुई प्रदेश स्तरीय किसान पंचायत में आंदोलन की तैयारी को लेकर मंथन किया गया. प्रदेशाध्यक्ष रतनमान ने कहा कि केंद्र व राज्य में शासित भाजपा सरकार किसानों मांगों की लगातार अनदेखी कर ही है. देशभर में किसान अपने हक के लिए आंदोलन कर रहे हैं, लेकिन सरकार

मंदसौर मध्य प्रदेश के मंदसौर में पुलिस फायरिंग में पांच किसानों की मौत के बाद लोगों का गुस्सा उबाल पर है. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी गुरुवार को मंदसौर के किसानों से मुलाकात करने के लिए निकले. वह राजस्थान-मध्य प्रदेश सीमा स्थित निमोड़ा से अपनी सिक्योरिटी को चकमा देकर बाइक पर सवार होकर निकल गए. लेकिन उन्हें मध्य प्रदेश पुलिस ने रोक लिया. इसके बाद वह पैदल आगे बढ़ने की कोशिश कर रहे थे. जिसके बाद नयागांव में मध्य प्रदेश पुलिस ने उन्हें एहतियातन हिरासत में ले लिया. उन्हें अस्थायी जेल भेजा गया. इसके बाद राहुल ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि

मध्य प्रदेश में किसान आंदोलन के लगातार छठे दिन हिंसा हो रही है. मंदसौर में एक दिन पहले फायरिंग में छह किसानों की मौत हुई थी. इसके बाद गुस्साए किसानों ने बुधवार को जिले के बरखेड़ा पंत में एसपी और कलेक्टर के साथ धक्कामुक्की की. कलेक्टर को सिर पर मारा. उनके कपड़े भी फट गए. मामला यही नहीं थमा. फायरिंग में मारे गए एक शख्स के अंतिम संस्कार के बाद भीड़ पुलिस की ओर दौड़ी. पुलिस के कई जवान जान बचाने के लिए भागकर पिपलिया मंडी थाने लौट गए. थाने के बाहर 600 जवान और उतने ही किसान अामने-सामने हो गए. मीडियाकर्मियों

मध्य प्रदेश में जारी किसान आंदोलन में हिंसा का दौर थम नहीं रहा है. मंगलवार को मंदसौर में आंदोलनकारियों ने 8 ट्रक और 2 बाइक को आग के हवाले कर दिया. पुलिस और सीआरपीएफ पर पथराव भी किया. हालत पर काबू पाने के लिए सीआरपीएफ की फायरिंग में 5 किसानों की मौत हो गई, जबकि दो घायल हो गए. इसके बाद शहर में कर्फ्यू लगा दिया गया. एमपी के होम मिनिस्टर भूपेंद्र सिंह ने कहा कि पुलिस की तरफ से कोई फायरिंग नहीं हुई. बता दें कि किसान कर्ज माफी समेत कई मांगें कर रहे हैं. एक धड़े का सरकार से समझौता

भारतीय किसान यूनियन ने शुक्रवार को चंडीगढ़-पंचकूला बॉर्डर पर धरना प्रदर्शन किया। किसान अपनी मांगों को लेकर सीएम आवास की ओर कूच कर रहे थे, लेकिन इन्हें चंडीगढ़ पुलिस ने मनीमाजरा के पास ही रोक दिया। इसके बाद एक प्रतिनिधिमंडल की मुलाकात सीएम के ओएसडी भूपेंद्र  सिंह से करवाई गई, लेकिन प्रतिनिधिमंडल ओएसडी के आश्वासन से खुश नहीं हुआ और मनीमाजरा में अनिश्चितकालीन धरना शुरू कर दिया। यूनियन के प्रधान गुरनाम सिंह चंढूनी ने कहा कि किसानों की मांग है कि सरकार द्वारा फसल बीमा योजना में या तो आग से हुए नुकसान का बीमा भी शामिल किया जाए या फिर बीमा

दिल्ली जंतर-मंतर पर एक महीने से ज्यादा वक्त से विरोध-प्रदर्शन करने रहे तमिलनाडु के किसानों का धैर्य शायद अब जवाब दे चुका है. किसानों ने शनिवार को अपना विरोध जताने के लिए पेशाब पिया. किसानों ने अब रविवार को मानव मल खाकर प्रदर्शन की चेतावनी दी है. गौरतलब है कि तमिलनाडु के किसान केंद्र से कर्जमाफी और वित्तीय सहायता की मांग के साथ धरने पर बैठे हैं. सूखे के कारण उनकी फसल मारी गई है. इन किसानों की मांग है कि सरकार उनके लिए सूखा राहत पैकेज जारी करे. https://twitter.com/ANI_news/status/855676451097460736 किसान जंतर-मंतर में प्लास्टिक की बोतलों में मूत्र के साथ सामने आए. इससे पहले,