दिल्ली ईवीएम पर गड़बड़ी को लेकर चुनाव आयोग सख्त हो गया है. मामले में कड़ा रुख अपनाते हुए आयोग ने ईवीएम का विरोध करने वालों को खुला चैलेंज दिया है. चुनाव आयोग ने सभी पार्टियों से कहा है कि वह रविवार को आकर बताएं कि कोई ईवीएम कैसे हैक हो सकती है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आयोग ने विरोध करने वाली पार्टियों को रविवार को बुलाया है और कहा कि वे आकर गड़बड़ी साबित करें. इससे पहले चुनाव आयोग ने बैठक में अपनी ओर से ईवीएम के सिक्योरिटी फीचर्स पर ब्योरा पेश किया. बैठक में 7 राष्ट्रीय और 35 राज्य स्तरीय राजनीतिक

दिल्ली आम आदमी पार्टी ने गुरुवार को इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) के मुद्दे पर चुनाव आयोग ऑफिस के आगे प्रदर्शन किया. दिल्ली के लेबर मिनिस्टर और आप नेता गोपाल राय ने कहा कि उन्होंने चुनाव आयोग के समक्ष अपनी तीन मांगे रखी हैं. उन्होंने कहा कि अगर चुनाव आयोग कहता है कि ईवीएम मशीन टैंपर नहीं की जा सकती तो हम मांग करते हैं कि हमें मशीन दी जाए और हम उसे हैक करके दिखाएंगे. गोपाल राय ने कहा, हम मांग करते हैं कि ईवीएम को लेकर जो सवाल उठ रहे हैं उनका जवाब दिया जाए. उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और पंजाब जैसे राज्यों

दिल्ली आम आदमी पार्टी के प्रमुख अरविंद केजरीवाल पर भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद दिल्ली विधानसभा का मंगलवार को विशेष सत्र बुलाया गया. सत्र की शुरुआत ईवीएम से छेड़छाड़ के मुद्दे से हुई. सदन में पहले अलका लांबा ने यह मुद्दा उठाया और कहा कि अगर ईवीएम पर शक है तो क्या उसकी जांच होनी चाहिए. नई ईवीएम होते हुए भी एमसीडी चुनाव पुरानी मशीन से हुए. इसके बाद आप नेता सौरभ भारद्वाज ने ईवीएम से छेड़छाड़ का डेमो दिया. हालांकि वो असली ईवीएम की बजाय उसके जैसी दिखने वाली दूसरी मशीन लेकर आए थे. इससे पहले सदन में कार्यवाही शुरू होते ही भाजपा