दिल्ली चुनाव आयोग ने शनिवार को बहुचर्चित ईवीएम चैलेंज का आयोजन किया जिसमें केवल सीपीएम और एनसीपी ही पहुंची. ईवीएम हैकिंग चैलेंज में किसी भी पार्टी ने हिस्सा नहीं लिया लेकिन मशीन के तमाम सुरक्षा इंतजामों के विस्तृत जानकारी ली. कार्यक्रम की जानकारी देते हुए मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैदी ने कहा कि आयोग चुनाव प्रक्रिया में पारदर्शिता स्थापित करने के लिए आगे से सभी चुनावों में VVPAT का इस्तेमाल करेगा. नसीम जैदी ने EVM पर विश्वास जताते हुए कहा, 'इसे हैक नहीं किया जा सकता और इसमें छेड़छाड़ भी संभव नहीं है. इसके परिणाम बदले नहीं जा सकते.' उन्होंने बताया कि चैलेंज

ईवीएम मशीन हैक करने के लिए आज आवेदन करने का आखिरी दिन है, लेकिन अभी तक किसी भी पार्टी ने इसके लिए आवेदन नहीं किया है. आपको बता दें कि ईवीएम हैकिंग को लेकर चुनाव आयोग ने सभी पार्टियों को खुली चुनौती थी, लेकिन अभी तक किसी भी पार्टी की तरफ से कोई नामांकन नहीं हुआ है. चुनाव आयोग के प्रवक्ता ने गुरुवार देर शाम को बताया  कि अब तक किसी पार्टी ने किसी जानकार को ईवीएम चुनौती स्वीकार करने के लिए नामित नहीं किया है. इससे पहले 20 तारीख को आयोग ने घोषणा की थी कि 3 जून से ईवीएम चैलेंज