251 रुपये में फ्रीडम मोबाइल फोन और 2999 रुपये में फोर-जी स्मार्ट फोन देने का दावा करने वाली रिंगिंग बेल कंपनी द्वारा किए गए करोड़ों के घोटाले की जांच अब प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) कर सकता है। शुक्रवार को दिल्ली ईडी के एक इंस्पेक्टर गाजियाबाद पहुंचे और केस संबंधी दस्तावेज जुटाए। बता दें कि फरवरी में सिहानी गेट थाने में रिंगिंग बैल कंपनी के एमडी मोहित गोयल समेत पांच लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी की रिपोर्ट दर्ज की गई थी। इस मामले में पुलिस ने कंपनी के एमडी मोहित गोयल समेत अन्य आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। नेहरूनगर स्थित आयाम इंटरप्राइजेज के

लालू यादव परिवार के लिए संकट खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है. लालू की बेटी मीसा भारती और दामाद शैलेश के सीए राजेश अग्रवाल के खिलाफ ईडी ने कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी है. चार्जशीट में ये बताया गया है कि किस तरह राजेश अग्रवाल कालाधन सफेद करने के खेल में जुटा हुआ था. मीसा और शैलेश की कंपनी मिशेल पर आरोप हैं कि इसी कंपनी में चार शैल कंपनियों के जरिए पैसा आया था और इसी पैसे से दिल्ली में फार्म हाऊस खरीदा गया था. ईडी इस मामले में शैल कंपनी के मालिक जैन बंधुओं और शैलेश

एक तरफ CBI तो दूसरी ओर ED, RJD प्रमुख लालू प्रसाद यादव और उनके परिवार की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं. शुक्रवार को लालू के 12 ठिकानों पर CBI के छापों के बाद, शनिवार को प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने उनकी बेटी और राज्यसभा सांसद मीसा भारती और उनके पति शैलेश कुमार के ठिकानों पर छापे मारे. बताया जा रहा है कि दोनों से पूछताछ भी की गई है. हालांकि शुक्रवार को हुई छापेमारी से इसका कोई ताल्लुक नहीं है. यह मामला मीसा और शैलेश की बेनामी संपत्ति से जुड़ा है. शनिवार सुबह ईडी ने मीसा भारती और शैलेश के तीन ठिकानों

मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह काले धन मामले में वीरवार को ईडी के समक्ष पेश हुए थे। दोपहर 12 बजे से रात 9 बजे तक करीब नौ घंटे ईडी ने सीएम से पूछताछ की।जांच एजेंसी ने सीएम वीरभद्र सिंह से करीब 100 सवाल पूछे हैं। ईडी ने वीरभद्र सिंह एवं अन्य के खिलाफ दर्ज काले धन को सफेद बनाने से बचाव के कानून के तहत मामला दर्ज किया है। निदेशालय ने इस मामले में मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के बयान रिकार्ड करने और आय के ज्ञात स्रोतों से अधिक संपत्ति अर्जित करने के मामले में जब्त और बरामद किए गए कुछ दस्तावेजों को लेकर

AJL को प्लाट दोबारा आवंटित करने के मामले में ईडी ने दो लोगों से पूछताछ की है। सूत्रों के मुताबिक, मामले में पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा और कांग्रेस नेता मोती लाल वोरा से पूछताछ की गई है। बता दें कि मामले में सीबीआई ने हुड्डा के खिलाफ केस दर्ज कर​ लिया था। उसके बाद कई अफसरों और नेताओं की मुश्किलें बढ़ गईं। यह प्लाट संख्या 17 पंचकूला के सेक्टर-6 में प्रमुख स्थान पर है। स्टेट विजिलेंस ब्यूरो की जांच के आधार पर खट्टर सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश की थी। स्टेट विजिलेंस ब्यूरो ने प्लाट का एक बार आवंटन

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह , मनी लॉन्ड्रिंग मामले में को ईडी के सामने पेश नहीं हुए, जिसके बाद ईडी ने उनके खिलाफ नया समन जारी किया है। नए समन के मुताबिक मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को 20 अप्रैल को जांच अधिकारी के सामने पेश होना होगा। आधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री के पेश नहीं होने के कारण उनके खिलाफ के तहत नया समन जारी किया गया है।